close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर के वॉल सिटी क्षेत्र में आज क्यों मंडराया ड्रोन, जानिए पूरी खबर

इस वीडियो ग्राफी के जरिए जयपुर शहर का थ्री डी नक्शा भी बनाया जाएगा ताकि अवैध निर्माण और अतिक्रमण की आसानी से पहचान हो सके.

जयपुर के वॉल सिटी क्षेत्र में आज क्यों मंडराया ड्रोन, जानिए पूरी खबर
सोमवार से शहर में ड्रोन से वीडियोग्राफी शुरू की गई है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
Play

रोशन शर्मा, जयपुर: राजस्थान की राजधानी जयपुर के वॉलसिटी (wall city) क्षेत्र को वर्ल्ड हैरिटेज (world haritage) का दर्जा मिलने के बाद अब सरकार अवैध निर्माणों को लेकर एक्शन में दिखेगी.

चारदीवारी इलाके में अतिक्रमण (incroachment)की पहचान करने के लिए सोमवार से शहर में ड्रोन (drone)से वीडियोग्राफी (videography) शुरू की गई है. इस वीडियो ग्राफी के जरिए जयपुर शहर का थ्री डी नक्शा भी बनाया जाएगा ताकि अवैध निर्माण और अतिक्रमण की आसानी से पहचान हो सके.

थ्री डी नक्शें से वॉलसिटी के लोगों को प्रशासन की ओर से स्मार्ट सॉल्यूशन पहुंचाने में भी मदद मिलेगी. यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल (UDH Minister shanti dhariwal) ने सुबह 10 बजे सांगानेरी गेट से इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट की शुरूआत की.

सर्वे और वीडियोग्राफी के दौरान इलाके में यातायात को भी डायवर्ट किया गया  इस दौरान चारदीवारी क्षेत्र में हैरिटेज को बिगाड़ कर बनाए गए बहुमंजिला निर्माण और अतिक्रमण को सूचीबद्ध किया जाएगा. और संभव है कि दीपावली के बाद इस तरह के निर्माण पर सख्त कार्रवाई भी की जाएगी. इसके अलावा सरकार चारदीवारी क्षेत्र में हैरिटेज बायलॉज लागू करने की तैयारी में भी है.

आपको बता दें कि अजरबैजान की राजधानी बाकू में यूनेस्को के 43वें सम्मेलन में जयपुर शहर के परकोटा क्षेत्र को विश्व विरासत सूची में शामिल किया गया था. अब दिसम्बर 2019 में यूनेस्को की ओर से विश्व विरासत सूची की दोबारा समीक्षा की जाएगी. ऐसे में यूनेस्को की शर्तो के मुताबिक राज्य सरकार और नगर निगम चारदीवारी इलाके में बने अवैध निर्माण और अतिक्रमण हटाकर शहर को फिर से हेरिटेज लुक देने की तैयारी में है.