close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा: इनमें दिखी गंगा-जमुनी तहजीब, विजयदशमी के लिए मुस्लिम युवक बना रहे रावण

रावण को तैयार करने वाले युवा आमिर ने बताया, 4 सितम्बर से लगातार काम कर रहें हैं और दिल्ली से आए हैं. उसने कहा, असली खुशी ये मिलती है कि ये पर्व हिंदुओ से जुड़ा है

कोटा: इनमें दिखी गंगा-जमुनी तहजीब, विजयदशमी के लिए मुस्लिम युवक बना रहे रावण
आमिर ने बताया, 4 सितम्बर से लगातार काम कर रहें हैं.

कोटा: राजस्थान के कोटा में दहशरे के मेले की तैयारियां शुरू हो गई हैं. यहां के ऐतिहासिक मेले का आगाज रावण दहन के साथ होता है. विशाल रावण और उसके परिवार के दहन को देखने हजारों लोग यहां पहुंचते हैं. विजयदशमी के इस पर्व में कौमी एकता की मिसाल बखूखी देखने को मिलती है.

वैसे तो दशहरा हिंदुओ का पर्व हे लेकिन इस पर्व में मुस्लिम भी अपनी भूमिका कई दूसरे तरीकों से अदा करते हैं. जिस बुराई रूपी रावण के अंत के हम गवाह बनेंगे. कोटा में उस रावण के कुनबे को दिल्ली के मुस्लिम युवाओं ने बनाया है. ये 15 युवा लगातार जुटे हुए हैं और रावण को अंतिम रूप देने में अपनी पूरी शिद्दत से काम करे हैं. युवा अपने काम और हुनर को तो अंजाम दे ही रहे हैं. साथ में कौमी एकता की मिसाल भी पेश कर रहे हैं.

ये वीडियो भी देखें:

एक महीने की कड़ी मेहनत के बाद घर के बच्चे से लेकर बुजुर्ग के चेहरे पर तब ख़ुशी आती है जब लाखों लोगों का हुजूम रावण दहन के मौके पर मेला स्थल पर पहुंचता है. रावण के दहन के बाद बराई के अंत के बाद जो तारीफ रावण के बेहतर बनने की होती हे वही होता है इन कलाकारों का असली इनाम.

रावण को तैयार करने वाले युवा आमिर ने बताया, 4 सितम्बर से लगातार काम कर रहें हैं और दिल्ली से आए हैं. उसने कहा, असली खुशी ये मिलती है कि ये पर्व हिंदुओ से जुड़ा है और हमें ये काम मिला है. हम लम्बे समय से रावण बनाते आ रहे हैं. लोगों की ख़ुशी ही हमारा ईनाम होती है.

देश की गंगा जमनी तहजीब और कौमी एकता का पाठ हमारे हर त्यौहार में देखने को मिलता है. ऐसे में एक मुस्लिम परिवार का एक महीने तक रावण का पुतला बनाने का पूरा उद्देश्य कौमी एकता की मिसाल तो कायम कर रहा है. साथ ही हमारे त्योहारों में हर धर्म की भागीदारी होने की जो रवायत चली आ रही है उसे भी निभा रहा है.