close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा: सीनडरोंमिक कम्यूनिकेटिंग हाइड्रोकेफलस से पीड़ित दो नवजात का MBS अस्पताल में हुआ सफल इलाज

न्यूरोसर्जन डॉ. एसएन गौतम ने बताया कि मंडाना की रहने वाली गुजरी बाई ने गत 22 सितंबर को जेके लोन हॉस्पिटल में ऑपरेशन से जुड़वा लड़कों को जन्म दिया. 

कोटा: सीनडरोंमिक कम्यूनिकेटिंग हाइड्रोकेफलस से पीड़ित दो नवजात का MBS अस्पताल में हुआ सफल इलाज
इस बीमारी से पीड़ित मरीज के दिमाग में पानी की मात्रा का असामान्य रूप से बढ़ना है.

कोटा/ मुकेश सोनी: मेडिकल कॉलेज कोटा से सम्बद्धित एमबीएस अस्पताल के न्यूरोसर्जरी विभाग में 13 दिन के जुड़वा नवजात शिशुओं का ऑपरेशन हुआ है. जो दुर्लभ बीमारी सीनडरोंमिक कम्यूनिकेटिंग हाइड्रोकेफलस (सिर में पानी सोखने की क्षमता कम) से पीड़ित थे. दिमाग मे पानी की मात्रा अधिक होने से दोनों नवजात शिशुओं का सिर असामान्य रूप से बड़ा हुआ था. आमतौर पर सिर और दिमाग का वजन ढाई किलो रहता है.

इस केस में नवजातों के सिर का ही वजन डेढ किलो था. न्यूरोसर्जन डॉ. एसएन गौतम ने बताया कि दोनों नवजात के वेंट्रिकुलो पेरीटोनियल शंट (पानी को सोखने के लिए सिर से पेट तक नली) डाला गया. फिलहाल दोनों बच्चे स्वस्थ है. जुड़वा नवजात बच्चों को जन्मजात बीमारी के कारण संभवतः देश का पहला केस होने का दावा किया जा रहा है. 

क्यो हैं दुर्लभ
न्यूरोसर्जन डॉ. एसएन गौतम ने बताया कि मंडाना की रहने वाली गुजरी बाई ने गत 22 सितंबर को जेके लोन हॉस्पिटल में ऑपरेशन से जुड़वा लड़कों को जन्म दिया. दोनों बच्चों का सिर का असामान्य रूप से बड़ा था. जब इनकी सिटी स्कैन करवाई गई तो दोनो की जाच रिपोर्ट एक जैसी आई. रिपोर्ट में बच्चों को दिमाग में कम्यूनिकेटिंग हाइड्रोकेफलस नाम की जन्मजात बीमारी मिली. एक जैसी शक्ल, एक जैसी जांच रिपॉर्ट और एक जैसी बीमारी होने के कारण इसे दुर्लभ माना गया. 

क्या है हाइड्रोसेफेलस 
इस बीमारी से पीड़ित मरीज के दिमाग में पानी की मात्रा का असामान्य रूप से बढ़ना है. बच्चे का मानसिक एवं शारीरिक विकास नहीं होना, दिमागी तौर पर कमजोर होना, सिर में दर्द से उलटी होना, मिरगी के दौरे आना, आंखो की रोशनी में कमी, यहां तक कि कोमा में चल जाता है. सीटी स्कैन, एमआरआई जांच में मरीज की बीमारी का पता चलता है. जिसके बाद 
ऑपरेशन द्वारा शंट अथवा एंडोस्कोपिक थर्ड वेंट्रिकुलोस्टोमी के द्वारा मरीज का इलाज किया जाता है. समय रहते इलाज होने पर 60 प्रतिशत बच्चे सामान्य जीवन जी पाते है.