close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कर्नाटक LIVE: रातभर विधानसभा में रुके बीजेपी विधायक, आज होगा फ्लोर टेस्ट

राज्यपाल के इस निर्देश के बाद कर्नाटक में 13 महीने पुरानी कांग्रेस-जनता दल सेक्यूलर गठबंधन सरकार के सामने अब परीक्षा की घड़ी उपस्थित हो गई है.

कर्नाटक LIVE: रातभर विधानसभा में रुके बीजेपी विधायक, आज होगा फ्लोर टेस्ट
सुबह मॉर्निंग वॉक करते दिखे विधायक, रातभर विधानसभा में ही रुके थे.

बेंगलुरु: कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस सरकार के लिए आज शक्ति परीक्षण का दिन है. राज्य में बढ़ते सियासी संकट के बीच राज्‍यपाल वजू भाई वाला ने अब मुख्‍यमंत्री एचडी कुमारास्‍वामी को पत्र लिखकर कहा है कि वह शुक्रवार दोपहर 1.30 बजे अपना बहुमत साबित करें. इससे पहले राज्‍यपाल ने विधानसभा स्‍पीकर से आग्रह किया था कि वह गुरुवार को ही फ्लोर टेस्‍ट पर विचार करें. लेकिन स्‍पीकर ने सदन एक दिन के लिए स्‍थग‍ित कर दिया. इसके बाद बाद बीजेपी ने अपने विधायकों के साथ विधानसभा में ही धरना देना शुरू कर दिया.  

रातभर विधानसभा में रुकने वाले बीजेपी विधायकों ने आज सुबह मॉर्निंग वॉक करते देखा गया.

 

गुरुवार रात पूर्व मुख्‍यमंत्री बीएस येदियुरप्‍पा अपने सभी साथी विधायकों के साथ फ्लोर पर सोते दिखाई दिए.

बीजेपी विधायकों और विपक्ष के नेता बीएस येदि‍युरप्‍पा से कांग्रेस विधायक डीके शिवकुमार और एचएस पाट‍िल ने बात की थी. हालांकि इस मुलाकात का कोई परिणाम नहीं निकल पाया. कर्नाटक बीजेपी के विधायक विधानसभा में ही सो गए.

बीजेपी के नेता बीएस येद‍ियुरप्‍पा ने गुरुवार को कहा था, हमारी मांग सिर्फ इतनी है कि आज ही फ्लोर टेस्‍ट कराया जाए. लेकिन मुख्‍यमंत्री इसके लिए तैयार नहीं हैं. वह सदन और लोगों का भरोसा खो चुके हैं. उनके पास सिर्फ 98 विधायक हैं. हमारे पास 105 सदस्‍य हैं.

दरअसल नंबर गेम के कारण कांग्रेस और जेडीएस की सरकार चाहती थी कि गुरुवार को सदन में फ्लोर टेस्‍ट न हो. वहीं बीजेपी ने साफ कर दिया था कि सदन में विश्‍वास मत गुरुवार को ही हा‍स‍िल किया जाना चाहि‍ए. इसके ल‍िए बीजेपी विधायकों ने राज्‍यपाल वजूभाई वाला से मुलाकात की. इसके बाद राज्‍यपाल ने स्‍पीकर से कहा क‍ि वह गुरुवार ही विश्‍वासमत पर वि‍चार करें.

 

 

इधर, कांग्रेस विधायक एचके पाट‍िल ने सदन में कहा राज्‍यपाल की सलाह पर कहा, राज्‍यपाल सदन की कार्यवाही में हस्‍तक्षेप नहीं कर सकते हैं. सदन की कार्यवाही संव‍िधान के हिसाब से चलेगी. मैं राज्‍यपाल से कहना चाहूंगा कि वह सदन की कार्यवाही में हस्‍तक्षेप न करें.