महाराष्ट्र में परिवार वाली सरकार, अजित बने डिप्टी CM, आदित्य को मिला कैबिनेट मंत्री का पद

अजित पवार ने डिप्टी सीएम के रूप में शपथ ली. वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व सीएम अशोक चव्हाण ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली.

महाराष्ट्र में परिवार वाली सरकार, अजित बने डिप्टी CM, आदित्य को मिला कैबिनेट मंत्री का पद

मुंबई: महाराष्ट्र (Maharashtra) में आज मंत्रिमंडल का विस्तार होना है. महा विकास आघाडी की सरकार के पहले कैबिनेट विस्तार में तीनों ही दलों से कुल 36 मंत्रियों ने शपथ ली. राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी ने विधान भवन में आयोजित कार्यक्रम में सबसे पहले एनसीपी नेता अजित पवार को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई. अजित पवार उद्धव ठाकरे सरकार में डिप्टी सीएम की जिम्मेदारी संभालेंगे. अजित पवार के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व सीएण अशोक चव्हाण ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली. इनके अलावा जिन मंत्रियों ने शपथ ली उनमें निम्न नाम शामिल हैं.

दिलीप वलसे पाटिल 
इसके बाद एनसीपी के दिलीप वलसे पाटिल ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली. वलसे पाटिल पश्चिम महाराष्ट्र से चुनाव आते हैं. वह सातवीं बार एमएलए बने हैं. पहले भी महाराष्ट्र सरकार में अलग अलग पोर्टफोलियों संभाल चुके हैं. ऐसा माना जा रहा है कि गृह मंत्रालय का पोर्टफोलियों दिलीप वलसे पाटिल के पास जाएगा. पाटिल को शरद पवार का विश्वास पात्र माना जाता है.

धनंजय मुंडे
बीजेपी से राजनीति शुरू करने वाले धनंजय मुंडे ने इस बार अपनी चचेरी बहन पंकजा मुंडे को हराया था. धनंजय मुंडे महाराष्ट्र के मराठवाड़ा रीजन के बीड़ इलाके से आते हैं. दिवंगत बीजेपी नेता गोपीनाथ मुंडे के भतीजे हैं.

विजय वादेत्तीवार
कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ लेने वाले अगले नेता विजय वादेत्तीवार रहे. विजय वादेत्तीवार चिमूल से कांग्रेस के विधायक हैं जोकि नक्सल प्रभावित गढ़चिरौली में हैं. 1998 में पहली बार विधायक बने थे. 2004 के बाद से लगातार जीत रहे हैं. ओबीसी समाज से आते हैं.

अनिल वसंतराव देशमुख
नागपुर की कटौल विधानसभा से विधायक है. विदर्भ क्षेत्र में एनसीपी के नेता हैं. शरद पवार के करीबी माने जाते हैं. विदर्भ में एनसीपी की पैठ बनाने में अहम भूमिका है. पहले भी कई सरकारों में मंत्री रहे हैं.

हसन मुशरिफ
हसन मुशरिफ ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली. कोल्हापुर में कागल सीट से एनसीपी के विधायक हैं. इन्होंने शिवसेना के प्रत्याशी को ही हराया था. पांच बार से विधायक हैं.

वर्षा गायकवाड़
मुंबई की धारावी विधानसभा से लगातार चौथी बार विधायक बनीं है. कांग्रेस पार्टी में दलित समाज का नेतृत्व करती है. पहले भी कई अहम मंत्रालयों को संभाल चुकी हैं.

राजेंद्र शिंगणे
एनसीपी नेता राजेंद्र शिंगणे ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली. विदर्भ की बुलढाणा सीट से विधायक हैं.

नवाब मलिक
नवाब मलिक ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली. एनसीपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं. अनुशक्ति नगर से एनसीपी के विधायक हैं. मुंबई में एनसीपी से चुने जाने वाले इकलौते विधायक हैं. 2009, 2014 में भी विधायक रहे हैं.

राजेश टोपे
एनसीपी के विधायक हैं. पहले भी मंत्री रह चुके हैं. इनके पिता भी महाराष्ट्र के बड़े नेता रहे हैं. पांचवीं बार के विधायक बने हैं. मराठवाड़ा इलाके के जालना जिले से आते हैं. अजित पवार के करीबी माने जाते हैं.

सुनील छत्रपाल केदार
विदर्भ इलाके से कांग्रेस के विधायक हैं. नागपुर बैंक घोटाले में नाम आया था. कुछ दिनों के लिए जेल भी जाना पड़ा था.

संजय दुली चंद राठौड़
यवतमाल इलाके में दिगरस विधानसभा से विधायक हैं. शिवसेना के विधायक हैं. हमेशा से किसानों की आवाज उठाते रहे हैं. 2009 से लगातार विधायक हैं.

गुलाब राव पाटिल
शिवसेना के विधायक हैं. जलगांव जिले से आते हैं. फ्रॉड के मामले में 2016 में गिरफ्तार हो चुके हैं. 

अमित विलासराव देशमुख
पूर्व सीएम विलासराव देशमुख के बेटे हैं. लातूर जिले से आते हैं. कांग्रेस पार्टी से विधायक हैं. पहली बार कैबिनेट मंत्री बन रहे हैं. मराठा कोटे से मंत्री बनाए जा रहे हैं.

दादाजी भूसे
शिवसेना से विधायक हैं. मालेगांव विधानसभा सीट से विधायक हैं. चौथी बार विधायक बने हैं. पिछली सरकार (बीजेपी-शिवसेना) में राज्य मंत्री रह चुके हैं. इस बार कैबिनेट मंत्री बनाया गया है.

जितेंद्र अव्हाण
लगातार तीसरी बार विधायक बने हैं. ठाणे जिले में मुंबई कालवा विधानसभा से एनसीपी विधायक हैं. एनसीपी-कांग्रेस की पिछली सरकार में भी मंत्री रहे हैं.

संदीपान भूमरे
औरंगाबाद जिले की पैथन विधानसभा सीट से शिवसेना के विधायक हैं. 5 बार विधायक रह चुके हैं. मराठवाड़ा में शिवसेना के बड़े नेता माने जाते हैं. 

आदित्य ठाकरे
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे बेटे हैं. ठाकरे परिवार से पहली बार विधायक बने हैं. मुंबई की वर्ली सीट से शिवसेना से विधायक है.

आज मंत्री बनने वालों की लिस्ट में निम्न नाम शामिल है.

आज शपथ लेने वाले मंत्रियों में 3 निर्दलीय विधायक भी हैं, जिन्होंने शिवसेना को पहले से समर्थन किया था, इस बार उन्हें शिवसेना के कोटे से मंत्री बनाया है.

कांग्रेस के जो 10 विधायक आज मंत्री बने हैं उनमें 8 कैबिनेट और 2 राज्यमंत्री शामिल हैं. इनमें अशोक चव्हाण (कैबिनेट), अमित देशमुख (कैबिनेट), असलम शेख (कैबिनेट), यशोमति ठाकुर (कैबिनेट), वर्षा गायकवाड़ (कैबिनेट), सुनील केदार (कैबिनेट), केसी पाडवी (कैबिनेट), विजय वडेट्टीवार (कैबिनेट), विश्वजीत कदम (राज्य मंत्री), सतेज पाटिल (राज्य मंत्री)

वहीं एनसीपी कोटे से अजित पवार, दिलीप वलसे-पाटील, हसन मुश्रीफ, राजेश टोपे, अनिल देशमुख, राजेंद्र शिंगणे, नवाब मलिक, जितेंद्र आव्हाड, धनंजय मुंडे, बालासाहेब पाटील, दत्ता भारणे, आदिती तटकरे मंत्री बनाए गए. 

बता दें शिवसेना ने महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव बीजेपी के साथ मिलकर लड़ा था और शिवसेना-बीजेपी गठबंधन को बहुमत भी मिला था, लेकिन मुख्यमंत्री पद को लेकर शिवसेना और बीजेपी के बीच टकराव पैदा हो गया था. उसके बाद शिव सेना ने कांग्रेस- एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बना ली और और उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री बने.

बता दें कि 29 नवंबर को उद्धव ठाकरे द्वारा मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के साथ ही 6 मंत्रियों ने शपथ ली थी. शिवसेना से एकनाथ शिंदे और सुभाष देसाई, एनसीपी से जयंत पाटिल और छगन भुजबल और कांग्रेस की ओर से बालासाहेब थोराट और डॉ. नितिन राउत ने मंत्री पद की शपथ ली थी.