close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा पहुंचे लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला, लिया बाढ़ प्रभावित इलाकों का जायजा

कई इलाकों में लोगों को अपने घर छोड़कर जाना पड़ रहा है. वहीं बारिश के कारण कई पक्के घरों की गिरने की भी खबरें सामने आई हैं. ऐसे में कोटा में स्थिति बेहद खराब है. 

कोटा पहुंचे लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला, लिया बाढ़ प्रभावित इलाकों का जायजा

कोटा: लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला सोमवार को कोटा के बाढ़ प्रभावित इलाकों का जायजा लेने पहुंचे. ओम बिड़ला ने इस दौरान नंदाजी की बाड़ी में लोगों से बातचीत की. लगातार हो रही बारिश के कारण कोटा बैराज से चंबंल नदी में 7 लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने के कारण चंबल नदी के आस पास के अधिकतर इलाके जलमग्न हो गए हैं. जिस कारण वहां रहने वाले लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. 

आपको बता दें, कोटा के अलावा झालावाड़, बारां, चित्तौड़गढ़ समेत कई अन्य इलाकों में बाढ़ आ गई है. जिसके चलते आम लोगों का जीवन अस्त व्यस्त हो गया तथा लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. कई इलाकों में लोगों को अपने घर छोड़कर जाना पड़ रहा है. वहीं बारिश के कारण कई पक्के घरों की गिरने की भी खबरें सामने आई हैं. ऐसे में कोटा में स्थिति बेहद खराब है. 

जिसके चलते ओम बिड़ला ने क्षेत्र का जायजा लेते हुए राहत और बचाव कार्य की स्थिति की भी जानकारी ली. वहीं सीएम अशोक गहलोत ने भी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई दौरा किया. यहां आपको बता दें, भारी बारिश के चलते चित्तौड़गढ़ के एक स्कूल में बच्चों के फंस जाने का मामला सामने आया था. जिसके चलते बच्चों के माता पिता भी काफी परेशान थे. हालांकि, स्कूल द्वारा बच्चों के सुरक्षित होने की जानकारी मिलने के बाद छात्रों के परिजनों ने राहत की सांस ली थी. 

सीमावर्ती मध्यप्रदेश में जारी बारिश के चलते काली सिंध नदी जबरदस्त उफान पर है. ऐसे में कालीसिंध बांध के 17 गेट खोलकर 3 लाख 25 हजार क्यूसेक पानी की लगातार निकासी की जा रही है. वहीं क्षेत्र के छापी, भीमसागर तथा राजगढ़ बांध के भी गेट खोले गए.