close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

शिवसेना के साथ गठबंधन के सवाल पर शरद पवार का बड़ा बयान, 'उनके साथ हमारी विचारधारा नहीं मिलती'

महाराष्ट्र में बीजेपी 100 और शिवसेना 61 सीटों पर आगे हैं. वहीं एनसीपी 55 और कांग्रेस पार्टी 43 सीटों पर आगे है. अन्य 29 सीटों पर आगे हैं. 

शिवसेना के साथ गठबंधन के सवाल पर शरद पवार का बड़ा बयान, 'उनके साथ हमारी विचारधारा नहीं मिलती'
(फोटो साभार - ANI)

मुंबई: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 (Maharashtra Assembly Elections 2019) के नतीजों के बाद बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को बहुमत मिलता तो दिख रहा है लेकिन दोनों ही पार्टियों के बीच सीएम पद को लेकर खींचतान भी दिखाई दे रही है. शिवसेना जहां अपना सीएम बनाना चाहती है वहीं बीजेपी शिवेसना को डिप्टी सीएम का पद देने पर विचार कर रही है. ऐसे में कुछ ऐसी भी खबरें सामने आई कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी यानि एनसीपी शिवसेना को समर्थन दे सकती है. ताकि बीजेपी को सत्ता से बाहर किया जा सके.

एनसीपी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) से जब इस बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, 'कांग्रेस एनसीपी गठबंधन और उसके साथ आगे की रणनीति पर चर्चा करेंगे. जहां तक बात रही शिवसेना के साथ जाने की तो मैं बता दूं कि हमारी उनके साथ विचारधारा नहीं मिलती है.' महाराष्ट्र में शिवसेना के साथ गठबंधन के सवाल पर शरद पवार ने कहा है कि शिवसेना के साथ हमारी विचारधारा नहीं मिलती है. 

शरद पवार ने प्रफुल पटेल का नाम इकबाल मिर्ची के साथ जोड़े जाने पर कहा, 'प्रफुल पटेल के साथ जो कुछ भी हो रहा है कि वह मेरा साथ सालों तक हुआ. मेरा नाम भी दाऊद इब्राहिम के साथ जोड़ा गया था. लेकिन इन बातों से कोई उद्देश्य नहीं हासिल नहीं होगा. लोग ऐसी बातों पर विश्वास नहीं करते हैं. प्रफुल पटेल का जीवन सभी के सामने है.'

बता दें कि महाराष्ट्र में बहुमत के लिए 145 सीटों का आंकड़ा चाहिए. रुझानों में ही बीजेपी और शिवसेना गठबंधन 164 से ज्यादा सीटों पर आगे चल रही है. साल 2014 के विधानसभा चुनावों में बीजेपी को 122 सीटें मिली थी वहीं शिवसेना को 61 सीटों पर जीत हासिल हुई थी. वहीं कांग्रेस को 42 और एनसीपी को 41 सीटों पर जीत मिली थी.

यह भी पढ़ेंः शिवसेना नेता संजय राउत का बड़ा बयान, 'बीजेपी से CM पद के लिए बातचीत होगी'

इस बार के शुरुआती रुझानों में ऐसा लग रहा था कि बीजेपी अपने दम पर ही बहुमत का आंकड़ा छू लेगी. लेकिन जैसे जैसे वोटों को गिनती आगे बढ़ रही है बीजेपी का अकेले अपने दम पर सत्ता में आना मुश्किल लग रहा है. उसे शिवसेना का साथ लेना ही होगा.