close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

शिवसेना नेता संजय राउत का बड़ा बयान, 'बीजेपी से CM पद के लिए बातचीत होगी'

संजय राउत चुनाव नतीजों को लेकर शिवसेना प्रमुख उद्धाव ठाकरे से मिलने के लिए उनके घर मातोश्री के लिए निकले.

शिवसेना नेता संजय राउत का बड़ा बयान, 'बीजेपी से CM पद के लिए बातचीत होगी'
(फाइल फोटो)

मुंबई: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 (Maharashtra Assembly Elections 2019) के रुझान और नतीजे सामने आते ही यह साफ हो गया कि राज्य में एक बार फिर बीजेपी शिवसेना गठबंधन की सरकार बनेगी. हालांकि दोनों पार्टियों के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर खींचतान की बात नतीजों के साफ होने से पहले ही सामने आ गई. शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा है कि मुख्यमंत्री पद को लेकर बीजेपी से बातचीत की जाएगी. इसके बाद संजय राउत चुनाव नतीजों को लेकर शिवसेना प्रमुख उद्धाव ठाकरे से मिलने के लिए उनके घर मातोश्री के लिए निकल गए.

बता दें कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में शिवसेना लगातार यह बात कहती आई है कि इस बार सीएम शिवसेना का होगा. इसलिए लिए इस बार शिवसेना ने पहली बार ठाकरे परिवार से प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारा है.  

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा है, 'राज्य में शिवसेना और बीजेपी कि सरकार बनेगी और दोनों को सीटें मिली है, इस तरह से रुझान मिल रहे है. हम गठबंधन के साथ है और दोनों लोग मिल के सरकार बनाएंगे. पहले से 50- 50 का फार्मूला का तय हुआ है और शिवसेना का मुख्यमंत्री हो इसके लिए भी बात होगी.'

आज (24 अक्टूबर) वोटों की गिनती (Maharashtra-Haryana Election Result 2019) जारी है. महाराष्ट्र में बीजेपी शिवसेना गठबंधन को प्रचंड बहुमत मिलता दिख रहा है. वहीं रुझानों में कांग्रेस-एनसीपी पीछे दिख रही हैं. महाराष्ट्र में बहुमत के लिए 145 सीटों का आंकड़ा चाहिए. रुझानों में ही बीजेपी और शिवसेना गठबंधन 164 से ज्यादा सीटों पर आगे चल रही है. साल 2014 के विधानसभा चुनावों में बीजेपी को 122 सीटें मिली थी वहीं शिवसेना को 61 सीटों पर जीत हासिल हुई थी. वहीं कांग्रेस को 42 और एनसीपी को 41 सीटों पर जीत मिली थी.

इस बार के शुरुआती रुझानों में ऐसा लग रहा था कि बीजेपी अपने दम पर ही बहुमत का आंकड़ा छू लेगी. लेकिन जैसे जैसे वोटों को गिनती आगे बढ़ रही है बीजेपी का अकेले अपने दम पर सत्ता में आना मुश्किल लग रहा है. उसे शिवसेना का साथ लेना ही होगा.