close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान के कई जिलों में अभी भी बरसात का दौर जारी, किसानों की फसलें हुईं खराब

किसानों ने बताया कि वर्तमान में वह लोग मूंग, बाजरा, ज्वार आदि की फसल को समेटने में लगे हुए हैं और असमय हुई बरसात से खुले आसमान के नीचे पड़ी. 

राजस्थान के कई जिलों में अभी भी बरसात का दौर जारी, किसानों की फसलें हुईं खराब

अजमेर: राजस्थान के कई जिलों में बारिश का दौर जारी है. अजमेर में गुरूवार को कई इलाकों में बारिश हुई. जहां बारिश के लोगों को गर्मी से थोड़ी राहत दी, वहीं किसानों को मुश्किल में डाल दिया. कई क्षेत्रों से फसल खराबे की ख़बर भी आ रही हैं. पीसांगन उपखंड क्षेत्र में एक बार फिर इंद्र राजा ने मौन व्रत तोड़ते हुए तूफानी हवाओ के साथ जमकर पानी बरसाया और इस दौरान उपखंड क्षेत्र के फतेहपुरा और सेठन में मेघ आधे घंटे तक एक बार फिर जमकर बरसे.

वहीं इस दौरान पीसांगन कस्बे को सिर्फ बूंदाबांदी से ही संतोष करना पड़ा. सवेरे 8 बजे से उपखंड मुख्यालय समेत देहात में पश्चिम दिशा से आए बादलों ने आसमान में डेरा डालना शुरू किया. इस दौरान देखते ही देखते बादलों ने चुप्पी तोड़ी और उपखंड क्षेत्र के फतेहपुरा और सेठन में बादल तूफानी हवाओं संग जमकर बरसने लगे. 

बरसात का यह दौर आधे घंटे तक अनवरत जारी रहा. जिसके कारण जहां मौसम में ठंडक व्याप्त हो गई. वहीं दूसरी ओर खेत खलिहानो में पड़ी कटी कटाई मूंग, बाजरा, ज्वार आदि फसले बरसात में भीगकर खराब हो गई. किसानों ने बताया कि वर्तमान में वह लोग मूंग, बाजरा, ज्वार आदि की फसल को समेटने में लगे हुए हैं और असमय हुई बरसात से खुले आसमान के नीचे पड़ी. कटी कटाई मूंग, बाजरा, ज्वार आदि फसलें बरसात से भीगने के कारण गुणवत्ता प्रभावित होने के साथ ही खराब हो रही हैं. किसानों ने कहा कि यह बरसात खेत खलिहान में पड़ी पकी पकाई फसलों के लिए सौतन साबित हुई है और यह बरसात फायदा कम नुकसान ज्यादा कर गई.