close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बाड़मेर में तीन तलाक का मामला आया सामने, पति ने दी पत्नी को मारने की धमकी

बामणोर निवासी मिबाई ने बताया कि उसका निकाह करीब 6 वर्ष पूर्व सलीम पुत्र आमद निवासी बामणोर के साथ हुआ था.

बाड़मेर में तीन तलाक का मामला आया सामने, पति ने दी पत्नी को मारने की धमकी
बामणोर गांव में तीन तलाक का मामला सामने आया है.

बाड़मेर: धोरीमना थाना क्षेत्र के बामणोर गांव में तीन तलाक का मामला सामने आया है. यह ट्रिपल तलाक कानून पास होने के बाद बाड़मेर जिले में यह पहला मामला है. खबर के मुताबिक एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी से मारपीट की तथा तीन बार तलाक-तलाक-तलाक बोल घर से निकाल दिया. साथ ही, केरोसिन डाल कर जलाने की भी धमकी दी. इसको लेकर पीड़िता ने धोरीमना थाना एव पुलिस अधीक्षक कार्यालय में रिपोर्ट दी लेकिन ने मामले को गम्भीरता से नहीं लिया. यहां तक कि कोई मामला भी दर्ज नहीं किया गया. वहीं, न्याय नहीं मिलने से पीड़िता ने न्यायालय के माध्यम से मामला दर्ज करवाया है.

दरअसल, बामणोर निवासी मिबाई ने बताया कि उसका निकाह करीब 6 वर्ष पूर्व सलीम पुत्र आमद निवासी बामणोर के साथ हुआ था. कुछ समय बाद ही पति व सास-ससुर दहेज के लिए प्रताड़ित करने लगे. इसको लेकर भी धोरीमन्ना थाने में दर्ज है. पिछले 3 वर्ष से वह अलग झोपड़ी बनाकर रह रही थी.19 अगस्त की शाम को उसके पति सलीम, सास हुमायत व आमद ने एकराय होकर उसके साथ मारपीट की और घर से बाहर निकाल घर पर ताला लगा दिया.

इस दौरान पति ने तीन बार तलाक कहा और केरोसिन डालकर जान से मारने की धमकी दी. मारपीट के दौरान चिल्लाने पर पड़ोसी ने बीच बचाव किया. अगले दिन 20 अगस्त को उसने धोरीमना पुलिस थाने में रिपोर्ट नदी तो पुलिस ने उसके पति को पाबंद कर छोड़ दिया. 

वहीं, न्याय नहीं मिलने से पीड़िता ने जिला पुलिस अधीक्षक से मिलकर मामला दर्ज करवाने की फरियाद लगाई लेकिन वहां भी कोई सुनवाई नहीं हुई. तब पीड़िता ने न्यायालय में परिवाद पेश किया तो कोर्ट ने बाड़मेर पुलिस को मामला दर्ज करने के आदेश दिए. अब पीड़िता ने न्यायालय के माध्यम के फिर रिपोर्ट पेश की है, लेकिन अभी पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की है.

इस मामले में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक खींवसिंह भाटी बताते है पीड़िता ने न्यायालय के जरिए धोरीमना थाने में मामला दर्ज करवाया है. पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है. हालांकि अभी तक आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई है. पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है. वहीं लोगों का कहना है कि बाड़मेर पुलिस में महिला उत्पीड़न एव अन्य संगीन मामलो में महिलाओं की सुनवाई नहीं होती है, जिससे बाड़मेर में लगातार महिला आत्महत्या के मामले बढ़ रहे हैं.