close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महबूबा मुफ्ती बोलीं, 'कश्‍मीर में अतिरिक्‍त जवानों की तैनाती से डर फैल रहा'

उन्‍होंने कहा कि कश्‍मीर घाटी में वैसे भी सुरक्षाबलों की कोई कमी नहीं है. जम्‍मू-कश्‍मीर राजनीतिक समस्‍या है, सेना इसका हल नहीं है. केंद्र सरकार को इस मामले में दोबारा विचार करने और अपनी नीतियों में बदलाव करने की जरूरत है.

महबूबा मुफ्ती बोलीं, 'कश्‍मीर में अतिरिक्‍त जवानों की तैनाती से डर फैल रहा'
महबूबा मुफ्ती ने साधा केंद्र सरकार पर निशाना. फाइल फोटो

नई दिल्‍ली : केंद्र सरकार की ओर से जम्‍मू-कश्‍मीर में सुरक्षा के लिहाज से तैनात किए गए 10 हजार अतिरिक्‍त सुरक्षाबलों को लेकर पूर्व मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने निशाना साधा है. महबूबा मुफ्ती ने शनिवार को ट्वीट कर कहा कि केंद्र सरकार की ओर से कश्‍मीर घाटी में की गई 10 हजार जवानों की अतिरिक्‍त तैनाती से लोगों में डर व्‍याप्‍त हो रहा है.

 

उन्‍होंने कहा कि कश्‍मीर घाटी में वैसे भी सुरक्षाबलों की कोई कमी नहीं है. जम्‍मू-कश्‍मीर राजनीतिक समस्‍या है, सेना इसका हल नहीं है. केंद्र सरकार को इस मामले में दोबारा विचार करने और अपनी नीतियों में बदलाव करने की जरूरत है.

बता दें कि जम्‍मू-कश्‍मीर में सुरक्षा के लिहाज से गृह मंत्रालय ने आदेश जारी कर राज्‍य में सुरक्षाबलों की 100 अतिरिक्‍त कंपनियां तैनात करने का निर्णय लिया है. इस आदेश के मुताबिक केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की 50 अतिरिक्‍त कंपनियां जम्‍मू और कश्‍मीर में तैनात की जाएंगी. इसके साथ ही दिल्‍ली से सीआरपीएफ की 9 अतिरिक्‍त कंपनियां कश्‍मीर घाटी में भेजी जाएंगी. 

 

जम्‍मू और कश्‍मीर में सीआरपीएफ के अलावा सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ), सशस्‍त्र सीमा बल (एसएसबी) और इंडो तिब्‍बतन बॉर्डर पुलिस (आईटीबीपी) की कंपनियां भी तैनात की जाएंगी. बता दें कि जम्‍मू और कश्‍मीर में पहले से ही 40 हजार सुरक्षाबल तैनात हैं.