close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मुंबई: घर दिलाने के नाम पर धोखा, पहले रहने को कहा, अब दिया आदेश- खाली करो

मुंबई मे लोगों को सस्ते दरों पर घर देने वाली म्हाडा का एक महिला को घर देने का अजीब कारनामा सामने आया हैं.

मुंबई: घर दिलाने के नाम पर धोखा, पहले रहने को कहा, अब दिया आदेश- खाली करो

मुंबई: मुंबई मे लोगों को सस्ते दरों पर घर देने वाली म्हाडा का एक महिला को घर देने का अजीब कारनामा सामने आया हैं. म्हाडा ने सायन प्रतिक्षा नगर इलाके में दत्तकृपा सोसायटी को पत्र खकर आदेश दिया है कि वो अपना सोसायटी का रूम और मीटर रूम खाली कर दें क्योंकि वो कमरा उन्होने किसी को बेंच दिया है. म्हाडा के इस तुगलकी फरमान ने सोसायटी के लोग काफी परेशान है. दत्तकृपा सोसायटी साल 2004 मे बनी थी म्हाडा ने 15 साल बाद पत्र भेजा है. म्हाडा से इस इमारत की लाटरी साल 2004 में निकाली थी जिसके तहत 31 फ्लैट दिए गए थे. साल 2004 के बाद जून 2019 मे म्हाडा की तरफ से ये पत्र आया कि उनकी इमारत कमरे को खाली कर दे. इस कमरे में बिल्डिंग का मीटर रूम और उससे लगा हुआ सोसायटी का ऑफिस है.

सोसायटी के लोगों का कहना है कि उनकी समझ के बाहर है की 15 साल के बाद पत्र क्यों भेजा गया, दूसरा वो अपना मीटर कहा लगाए, और सोसायटी का ऑफिस कहा बनाएं.इस मामले को लेकर जब जी मीडिया के म्हाडा के सभापति मधू चव्हाण से बात की गई तो उनका कहना है कि फ्लैट उन्हे दस साल पहले ही एलाट किया था लेकिन तब पैसा ना होने के करण वो फ्लैट नही ले पाए थे, अब उन्होने पैसा होने की बात कही है तो उन्हे कमरा दिया जा रहा है.

म्हाडा के नियमों के जिस वक्त जिसे फ्लैट एलाट किए जाते है अगर उस समय वो लेने मे सक्षम नहीं तो उसके बाद वाले (पेडिंग लिस्ट) शख्स को दे दिया जाता हैं. किसी के लिए रोका नही जाता है, ऐसे मे म्हाडा किसी महिला को फ्लैट देने के लिए दस साल तक इंतजार करे इस बात कही से भी गले से उतरती नही है और ना ही किसी नियम कानून के तहत आती हैं.

इनपुट : दिपाली जगताप