close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में मंत्री के अपहरण के बाद कमांडो ने किया रेस्क्यू, जानिए पूरा मामला

जयपुर में एक मंत्री को आतंकी संगठन(Terrorist Organisation)के लोगों ने अपहरण (Kidnapping)कर लिया. जिसके बाद कमांडोज की फोर्स ने तत्काल रेस्क्यू (Rescue)कराया.

राजस्थान में मंत्री के अपहरण के बाद कमांडो ने किया रेस्क्यू, जानिए पूरा मामला
इतना ही नही टीम ने इस दौरान आतंकियों को भी जिंदा ही पकड़ लिया.

जयपुर: जयपुर में एक मंत्री को आतंकी संगठन(Terrorist Organisation)के लोगों ने अपहरण (Kidnapping)कर लिया. जिसके बाद कमांडोज की फोर्स ने तत्काल रेस्क्यू (Rescue)कराया.

दरअसल, जयपुर(Jaipur) में बुधवार को चतुर्थ बटालियन आरएसी जयपुर परिसर का साल 2018-19 का वार्षिक निरीक्षण के दौरान मौक ड्रिल के दौरान यह दिखाया गया कि इस तरह की घटना पर इमरजेंसी रिस्पॉंस टीम कैसे काम करती है.

आपको बता दें कि प्रदेश के एडीजी सुनील दत्त ने बटालियन का वार्षिक निरीक्षण किया. वार्षिक निरीक्षण के दौरान बटालियन के कार्यों की जांच की गयी और पुलिसकर्मियों को निर्देश दिये गये. इस दौरान ईआरटी की ओर से बचाव कार्य का डेमो भी दिया गया.

एडीजी सुनील दत्त ने बताया कि समय समय पर ईआरटी व बटालियन के अन्य दलों के कार्यों की जांच की जाती है. आज इसी क्रम में जांच अभियान चलाया गया. इसी क्रम में इमरजेंसी रिस्पोंस टीम की ओर से बचाव का डेमो दिया गया, जिसमे किसी राजनेता के अपहरण से लेकर उसके बचाव व अपहरणकर्ताओं की गिरफ्तारी की पूरी प्रक्रिया दिखायी गयी. डेमो के दौरान इमरजेंसी रिस्पोंस टीम की ओर से दिखाया गया कि आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तयैबा के आंतकियों ने एक मंत्री को बंधक बना लिया है. इसके बाद ईआरटी ने तत्काल ऑपरेशन शुरु किया. ईआरटी के कमांडोज ने बेहतर तरिके से ऑपरेशन को अंजाम दिया और कुछ ही मिनटों में रोमांचक प्रदर्शन करते हुए अपृहत मंत्री को अपहरणकर्ताओं के चंगूल से मुक्त करवा लिया. इतना ही नही टीम ने इस दौरान आतंकियों को भी जिंदा ही पकड़ लिया. 

यह वीडियो भी देखें:

एडीजी सुनिल दत्त ने कहा कि राजस्थान में कई इस तरह की घटनाएं हुई है, तब इन टीम का इस्तेमाल हुआ है. इसी तरह का इनका अभ्यास जारी रहता है जिससे जरुरत होने पर तत्काल टीम की ओर से बेहतर ऑपरेशन को अंजाम दिया जा सके।

एडीजी सुनिल दत्त ने डेमो के बाद बटालियन की ओर से वर्ष भर में की गयी गतिविधियों और कार्यों का निरीक्षण किया. साथ ही बटालियन के पुलिसकर्मियों को उनके कर्त्वयों की याद दिलाते हुए अपनी ड्यूटी पूर्ण निष्ठा से निभाने की बात कही.