close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्ट्र: बाढ़ पीड़ितों को पानी-खाना पहुंचाएंगे मुंबई के डिब्बेवाले और रोटी बैंक

बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए डिब्बेवाले और मुंबई रोटी बैंक मिलकर खाने-पीने की चीजें और अन्य जरूरी सामान जमा कर रहे हैं. 

महाराष्ट्र: बाढ़ पीड़ितों को पानी-खाना पहुंचाएंगे मुंबई के डिब्बेवाले और रोटी बैंक
डिब्बावाला एसोसिएशन ने लोगों से अपील की है कि वो इस तरह की चीजें 15 अगस्त की शाम सात बजे तक डोनेट कर सकते हैं.

मुंबई: महाराष्ट्र के बाढ़ प्रभावित इलाकों में लोग खाने और पीने के पानी लिए तरस रहे हैं. हालांकि, महाराष्ट्र सरकार और केंद्रीय राहत टीमों की तरफ से भरसक मदद की जा रही है लेकिन प्रभावित लोगों की संख्या इतनी ज्यादा है कि मदद कम पड़ रही है. लोग दूध, सब्जी, पानी और खाने के लिए लंबी-लंबी कतारों में खड़े रहने को मजबूर हैं.

इन बाढ़ प्रभावितों की मदद के लिए मुंबई के डिब्बेवाले आगे आए हैं. डिब्बेवाले और मुंबई रोटी बैंक मिलकर बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए खाने-पीने की चीजें और अन्य जरूरी सामान जमा कर रहे हैं. ये सामान बाढ़ पीड़ितों तक पहुंचाया जाएगा. जो चीजें जमा की जा रही है उनमें अनाज, चावल, दाल, बिस्किट, चिवड़ा, नमकीन, महिलाओं और बच्चों और पुरुषों के कपड़े, जूते, चप्पल, कंबल आदि शामिल हैं. डिब्बावाला एसोसिएशन ने लोगों से अपील की है कि वो इस तरह की चीजें 15 अगस्त की शाम सात बजे तक डोनेट कर सकते हैं. इसके बाद ये सारी चीजें जमा कर बाढ़ प्रभावितों तक भेज दी जाएगी.

 

गौरतलब है कि मुंबई में करीब 5000 डिब्बेवाले हैं, जो रोजाना लोगों को करीब 20000 खाने के डिब्बे समय पर उनके आफिस में पहुंचाते हैं. ये खाने के डिब्बे उनके घरों से सुबह जमा करते हैं और लंच से पहले गर्मागर्म खाना बिना किसी चूक के उनके ऑफिस या कार्यस्थलों तक पहुंचा देते हैं. इनकी मुस्तैदी और समय की पाबंदी का लोहा मैनेजमेंट के संस्थान भी मानते हैं. खास बात ये कि किसी भी सामाजिक कार्य या विपदा की घड़ी में डिब्बेवाले हमेशा मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाते रहे हैं.

उसी तरह मुंबई का रोटी बैंक जरूरतमंद लोगों तक खाना पहुंचाने का काम करता है. महाराष्ट्र के पूर्व डीजीपी डी शिवानंदन की पहल से शुरु हुए एनजीओ के कार्यकर्ता शादी स्थलों,  होटलों, रेस्टारेंट, हाउसिंग सोसायटी आदि से बचा हुआ खाना कलेक्ट करते हैं और उसे जरूरतमंद लोगों तक पहुंचा देते हैं.