Breaking News
  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्राइवेट लैब को कोरोना जांच के लिए टेस्ट फीस लेने की अनुमति नहीं होनी चाहिए
  • मुंबई के बांद्रा के भाभा अस्पताल की 15 नर्सों को क्‍वारंटाइन किया गया
  • कोरोना के बीच डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ की सुरक्षा का मामला, सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ये लोग योद्धा हैं

मुंबई लॉकडाउन: दिव्यांग युवती ने ट्वीट कर गृहमंत्री से मांगी मदद, मात्र 25 मिनट में पुलिस ने खटखटाया दरवाजा

लॉकडाउन (Lock Down) के चलते लोगों को किसी प्रकार की परेशान की परेशानी का सामना ना करना पड़े इसका सरकार खास ख्याल रख रही है. महाराष्ट्र (Maharashtra) से एक ऐसा ही मामला सामने आया है जहां एक दिव्यांग युवती ने प्रदेश के गृहमंत्री को ट्वीट कर मदद मांगी थी.

मुंबई लॉकडाउन: दिव्यांग युवती ने ट्वीट कर गृहमंत्री से मांगी मदद, मात्र 25 मिनट में पुलिस ने खटखटाया दरवाजा
पुलिस को अपनी परेशानी बताती दिव्यांग विराली मोदी

मुंबई: लॉकडाउन (Lock Down) के चलते लोगों को किसी प्रकार की परेशान की परेशानी का सामना ना करना पड़े इसका सरकार खास ख्याल रख रही है. महाराष्ट्र (Maharashtra) से एक ऐसा ही मामला सामने आया है जहां एक दिव्यांग युवती ने प्रदेश के गृहमंत्री को ट्वीट कर मदद मांगी थी. जिसके बाद गृहमंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) ने तत्काल युवती की मदद के लिए निर्देश दिए. 

दरअसल, मलाद वेस्ट में रहने एक 25 साल की दिव्यांग युवती विराली मोदी ने गृहमंत्री को लॉकडाउन के दौरान होने वाली परेशानी से अवगत कराते हुए उन्हें एक ट्वीट किया था. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा था कि "वो शारिरीक रूप से दिव्यांग है और घर में अकेली रहती है. मैंने घर में खाना बनाने और जरूरी काम करने के लिए एक नौकरानी लगा रखी है लकिन वायरस के प्रकोप और प्रदेश में लॉकडान के चलते वो काम पर नहीं आ पा रही है. ऐसे में मुझे क्या करना चाहिए?"

इस ट्वीट पर तुरंत संज्ञान लेते हुए गृहमंत्री अनिल देशमुख ने संबंधित क्षेत्र के थानाध्यक्ष को फोन कर पूरी बात बताई और तत्काल पूरे इंतजाम करने के निर्देश दिए. युवती के ट्वीट करने के मात्र 25 मिनट बाद ही पुलिस इंस्पेक्टर युवती के घर पहुंच गए और सभी जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराईं. इस दौरान उन्होंने युवती को एक विशेष पास के साथ एक ड्राइवर भी मुहैया कराया जिससे वो अपने किसी रिश्तेदार के पास जा सकें.

मात्र 25 मिनट के अंदर मिली इस मदद से युवती को सतके में डाल दिया, जिसके बाद उन्होंने गृहमंत्री का मदद करने के लिए आभार व्यक्त किया. इसके कुछ समय बाद गृहमंत्री अनिल देशमुख ने युवती की मदद के लिए पहुंची पुलिस टीम की सराहना करते हुए कहा कि जब हम एक अभूतपूर्व स्वास्थ्य संकट के बीच में हैं, तो हम समस्या के मानवीय पक्ष को नहीं भूल सकते. राज्य सरकार किसी भी व्यक्ति को मदद पहुंचाने में तत्पर है. 

बताते चलें कि देश में तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में ब्रेक लगाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे देश को 14 अप्रैल तक लॉकडाउन कर दिया है. इस दौरान हर किसी ने खुद को घरों में पैक कर लिया है. लोगों को किसी तरह की परेशानी ना हो इसलिए सरकार ने जीनवावश्यक समानों के लिए लोगों की आवाजाही को जारी रखा है.

ये भी पढ़ें:- Coronavirus के खिलाफ महायुद्ध, लॉकडाउन की 'लक्ष्मण रेखा' लांघेंगे तो बहुत पछताएंगे