close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मेट्रोशेड के लिए काटे जाएंगे 22000 से ज्यादा पेड़, शिवसेना ने विरोध में खोला मोर्चा; कोर्ट जाएगी

इस फैसले के विरोध में उतरी शिवसेना ने पूछा है कि 27 आदिवासी बस्तियों को आप कहां बसाएंगे?

मेट्रोशेड के लिए काटे जाएंगे 22000 से ज्यादा पेड़, शिवसेना ने विरोध में खोला मोर्चा; कोर्ट जाएगी
मेट्रोशेड के लिए आरे इलाके के 2238 पेड़ काटने का प्रस्ताव दिया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मुंबई (दीपाली जगताप): शिवसेना के विरोध को नजर अंदाज करते हुए मुंबई में आरे इलाके में कारशेड बनाने के लिए पेड काटने के प्रस्ताव को वृक्ष प्राधिकरण समिति ने मंजूरी दे दी है. बावजूद इसके शिवसेना का विरोध जारी है. अब शिवसेना इस निर्णय खिलाफ कोर्ट में जायेगी. मेट्रोशेड के लिए आरे इलाके के 2238 पेड़ काटने का प्रस्ताव दिया है और 464 पेड़ों का स्थान्तातरण किया जाएगा, लेकिन पर्यावरण और आदिवसीयों का मुद्दा उठाकर शिवसेना ने इसका विरोध किया है.

बीएमसी की स्थायी समिति के चेयरमैन और पेड़ प्राधिकरण समिति में शिवसेना के सदस्य यशवंत जाधव ने बताया, ''शिवसेना की भूमिका पर्यावरणपूरक है. हम मेट्रो का विरोध नहीं करते हैं. हमारा विरोध पेड़ काटने को लेकर है. प्रशासन चाहे तो कांजूर मार्ग में भी मेट्रो शेड़ बना सकता है. हमने मुंबई के कांजूर इलाके में वैकल्पिक जगह बतायी थी. हजारों की संख्या में पेड़ काटने का फैसला का शिवसेना विरोध करती है. बीएमसी प्रशासन के पेड़ काटने के निर्णय को शिवसेना कोर्ट में चुनौती देगी.''

शिवसेना ने पूछा है कि 27 आदिवासी बस्तियों को आप कहां बसाएंगे. आदिवासी अपना गुजारा कैसे करेंगे. उनके लिए वैकल्पिक व्यवस्था क्या की गई है. इसका जवाब अभी तक बीएमसी प्रशासन की ओर से नहीं आया है.

गुरुवार को वृक्ष प्राधिकरण समिति के मतदान के दौरान भाजपा, एनसीपी और एक्सपर्ट समिति के सदस्यों ने प्रस्ताव के समर्थन में मतदान किया. शिवसेना प्रस्ताव का विरोध कर रही थी और कांग्रेस ने मतदान का बहिष्कार किया. यह प्रस्ताव 8 विरुद्ध 6 मतों से पारित हो गया.

बीएमसी में शिवसेना सत्ता में है, लेकिन वृक्ष प्राधिकरण समिति अध्यक्ष और मनपा आयुक्त मनपा ने मिलकर शिवसेना को शिकस्त दी है. ऐसी बात अब सामने आ रही हैं.