close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बहू ने सास को दुल्हन की तरह किया तैयार, दोनों ने साथ में किया रैम्प वॉक

प्रोग्राम में शामिल 31 बहुएं अपनी सास को सबसे सुंदर दिखाने की कोशिश कर रही थी

बहू ने सास को दुल्हन की तरह किया तैयार, दोनों ने साथ में किया रैम्प वॉक

अमर काणे, नागपुरः संतरों के शहर नागपुर में एक अनोखा रैम्प वॉक हुआ. इस रैम्प वॉक में सास-बहू दोनों एकसाथ रैम्प पर चले. सास-बहू इससे पहले भी कई बार रैम्प पर चली है. लेकिन नागपुर के इस प्रोग्राम की बात खास थी. इस प्रोग्राम में सास दुल्हन के जोडे में थीं और खुद बहू नें उन्हें तैयार किया था. इस प्रोग्राम का नाम ही 'अब सास बनेगी दुल्हन' था. प्रोग्राम में 31 सास-बहू की जोड़ी ने हिस्सा लिया. 

वैसे तो आम तौर पर यह कहां जाता है की सास-बहू का रिश्ता तू-तू-मैं-मैं का होता है. आम धारणा तो यही होती है. लेकिन नागपुर में आयोजित 'अब सास बनेगी दुल्हन' के प्रोग्राम में दोनो बिलकुल सहेलियों की तरह रैम्प वॉक करती दिखीं. खास बात यह रही कि इस कार्यक्रम में सास को दुल्हन बनाने का जिम्मा बहू पर छोडा गया था. ऐसे में हमेशा नोक-झोंक में बंधे इस रिश्ते को अलग नजरीये से देखने के लिए यह अनोखा कार्यक्रम नागपुर के निर्मल परिवार ने किया था. 

प्रोग्राम में शामिल 31 बहुएं अपनी सास को सबसे सुंदर दिखाने की कोशिश कर रही थी. उन्हें अपनी सास को बिलकुल दुल्हन की तरह तैयार करना था. बहुओं को इसलिए पर्याप्त समय दिया गया था और सबसे अहम बात यह थी की दुल्हन की वेशभूषा में सजी सास के साथ बहू को रैम्प वॉक भी करना था. 

इस प्रोग्राम में शामिल सास वर्षा बागवे कहती है कि यह एक अच्छा प्रयास था. बहू के हाथों सजने-सवारने का मौका हमें मिला. वैसे तो कहते है की सास-बहू का रिश्ता हमेशा तकरार वाला होता है, लेकिन आज एक नया रिश्ता बना. मां-बेटी का. जैसी मां बेटी को सजाती है वैसे ही बहू नें मुझे सजाया है. 

अपनी सास को सजने संवारने में व्यस्त स्नेहल जाधव ने कहां, 'मेरी सांस पहले से ही बेहद खूबसूरत थी. मैंने उनके पुराने फोटो देखे थे. ऐसे में मेरे ऊपर उन्हें और अच्छा और खूबसूरत बनाने की जिम्मेदारी आई थी. मैं चाहती हूं कि इस अनोखे कार्यक्रम में मेरी सास जो मेरी मां समान है, वह सबसे अच्छी दिखे. हम दोनों ने साथ में रैम्प वॉक किया.' 

इस प्रोग्राम की संयोजक पूजा मानमोडे ने कहा, 'यह हमारे लिए भी एक मौका था सास-बहू का रिश्ता जानने की कोशिश थी. वैसे तो आमतौर पर इस रिश्ते की तनातनी की बातें ही सब करते है, हम इन दोनों के प्यार की बातें लोगों के सामने लाना चाहते थे. ऐसा नहीं है कि हर घर में सास बहू में झगडा ही होता, कई सास-बहुए मां-बेटी की तरह भी रहती हैं. हम इस रिश्ते को नए तरीके से उजागर करना चाहते थे, इसलिए इस तरह के अनोखे प्रोग्राम का आयोजन किया गया.'