नवरूना हत्याकांड: जांच के लिए CBI को मिली तीन महीने की और मोहलत

‘स्टूडेंट्स फोरम फॉर सेव नवरूना’ की याचिका पर उच्चतम न्यायालय ने 25 नवंबर 2013 को सीबीआई जांच के आदेश दिए थे. 

नवरूना हत्याकांड: जांच के लिए CBI को मिली तीन महीने की और मोहलत
(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने बिहार के मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) में हुए बहुचर्चित नवरूना हत्याकांड (Navruna Murder Case) की जांच पूरी करने के लिए केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को तीन महीने का और समय दे दिया है. जस्टिस ए एम खानविलकर, जस्टिस दिनेश माहेश्वरी और जस्टिस संजीव खन्ना की बेंच ने सीबीआई के वकील की दलीलें सुनने के बाद जांच एजेंसी को तीन महीने की और मोहलत दे दी.

बता दें कि न्यायालय ने सीबीआई को इस मामले की जांच पूरी करने के लिए दसवीं बार मोहलत बढ़ाई है. 

ये भी पढ़ें- मुजफ्फरपुर नवरुणा हत्याकांड- सात सालों में भी सुराग खोजने में CID-CBI फेल, उठ रहे सवाल

याचिकाकर्ता अभिषेक रंजन ने अपने वकील के हवाले से बताया कि सीबीआई ने कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी के कारण जांच के काम में विलंब होने की दलील देते हुए कुछ और मोहलत दिए जाने का न्यायालय से अनुरोध किया. इसके बाद खंडपीठ ने सीबीआई को तीन माह का समय दिया. 

‘स्टूडेंट्स फोरम फॉर सेव नवरूना’ की याचिका पर उच्चतम न्यायालय ने 25 नवंबर 2013 को सीबीआई जांच के आदेश दिए थे. जिसके बाद जांच एजेंसी ने 14 फरवरी 2014 को इस हत्याकांड की जांच का जिम्मा संभाला था. दो साल की जांच के बाद भी कोई निष्कर्ष नहीं निकला तो अभिषेक ने मार्च 2016 में अवमानना याचिका दायर की थी. 

न्यायालय ने मई 2016 में हुई सुनवाई के बाद सीबीआई को छह माह के भीतर जांच पूरी करने का निर्देश दिया था. चार साल के भीतर जांच एजेंसी को दसवीं बार मोहलत मिली है.