close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्ट्र: सरकार गठन पर सस्पेंस, अजित पवार बोले 'मेरे पास संजय राउत का मैसेज आया'

पवार ने कहा कि मैसेज में लिखा था, नमस्कार, जय महाराष्ट्र, मैं संजय राउत. 

महाराष्ट्र: सरकार गठन पर सस्पेंस, अजित पवार बोले 'मेरे पास संजय राउत का मैसेज आया'
एनसीपी नेता अजित पवार

मुंबई: महाराष्ट्र में बीजेपी (BJP) और शिवसेना (Shiv Sena) के बीच सरकार गठन मामला लगातार उलझता जा रहा है. रविवार को शिवसेना और एनसीपी (NCP) के बीच संपर्क होने की चर्चाओं ने जोर पकड़ लिया है.  

एनसीपी नेता अजीत पवार (Ajit Pawar) ने यह कहकर सबको चौंका दिया जब उन्होंने बताया कि उनके पास शिवसेना नेता संजय राउत का एक मैसेज आया है. पवार ने कहा कि मैसेज में लिखा था, नमस्कार, जय महाराष्ट्र, मैं संजय राउत. अजित पवार ने कहा कि मैं उन्हें फोन करुंगा. लेकिन यह मैसेज सिर्फ राजनीति के लिए नहीं. वह एक बड़े नेता हैं और राज्यसभा सदस्य भी है. 

इससे पहले एनसीपी की मीटिंग में अजीत पवार ने कहा कि जनता ने एनसीपी को विपक्ष मे बैठने का जनादेश दिया है वो अपना काम करेगी. लेकिन अगर कहीं से सरकार बनाने की बात आती है तो कांग्रेस पार्टी की सर्वोच्च नेता सोनिया गांधी और एनसीपी के सर्वोच्च नेता शरद पवार जो फैंसला लेगे वो हमे मंजूर होगा.  एनसीपी नेता नवाब मलिक ने भी कहा, अगर शिवसेना अपनी भूमिका स्पष्ट करती है तो हम राजनीतिक सोच के साथ स्पष्ट चर्चा करेंगे. 

इससे पहले रविवार को संजय राउत ने बड़ा दावा करते हुए कहा था कि शिवसेना के पास 170 विधायकों का समर्थन है. 

वहीं दूसरी तरफ एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने सरकार को लेकर रविवार को कुछ नहीं कहा. मुंबई में हुई एनसीपी की मीटिंग में एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने कहा कि इस चुनाव में उन्हे युवाओं को अच्छा साथ मिला हैं. मुस्लिम समाज के लोग भी एनसीपी के समर्थन मे आगे आए हैं. किसानों ने भी एनसीपी की अच्छा साथ दिया. कुछ जगह पर हम कमजोर पड़े हैं. समाज के निचले तबके के लोगों ने हमारा साथ क्यों नही दिया इस पर विचार करने की जरूरत है. 

शरद पवार ने कहा, कल मै नासिक में था तो वहां पर आदिवासी समाज की महिलाओ ने मुझसे कहा कि मोदी को हटाओ. खेती संकट में है किसान संकट में हैं. इनको मदद की जरूरत है और हमे उनके साथ खड़ा होना हैं. कही-कही संगठन कमजोर पड़ा है. संगठन मे बदलाव किए जाएंगे. मुंबई और ठाणे में हमें अपने संगठन पर काम करने की जरूरत है.