close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: खराब पड़े हैं RTDC होटलों के CCTV, खतरे में पर्यटकों की सुरक्षा

विभाग की ओर से सिर्फ 8-10 होटलों में ही सीसीटीवी लगाए गए हैं.

जयपुर: खराब पड़े हैं RTDC होटलों के CCTV, खतरे में पर्यटकों की सुरक्षा
सीसीटीवी की गतिविधियां देखने के लिए मॉनिटर भी बंद पड़े रहते हैं.

दामोदर प्रसाद, जयपुर: राजस्थान पर्यटन विकास निगम के होटलों में पर्यटकों की सुरक्षा भगवान भरोसे है. होटलों में किसी भी पर्यटक के साथ कोई वारदात हो जाए तो सबूत के तौर पर कोई तथ्य नहीं मिलेंगे. होटल में लगे सीसीटीवी कैमरे सिर्फ दिखावे के लिए लगे हुए हैं. सीसीटीवी कैमरे की गतिविधियां देखने के लिए मॉनिटर भी बंद पड़े रहते हैं. 

राजस्थान पर्यटन का हब है. देश और दुनिया के पर्यटक यहां पहुंचते हैं और पर्यटन विभाग भी सभी को 'पधारो म्हारे देश' के मनुहार के साथ स्वागत करता है. ऐसे में हर पर्यटक ये उम्मीद करता है कि विभाग उनकी सुरक्षा की पूरी जिम्मेदारी लेगा लेकिन राजस्थान में ऐसा नहीं है. 

विभाग की ओर से सिर्फ 8-10 होटलों में ही सीसीटीवी लगाए गए हैं. जिन होटलों में सीसीटीवी (CCTV) लगे हैं, वह भी रखरखाव न होने की वजह से वो भी बंद पड़े हैं. उदयपुर, जोधपुर और जयपुर के नाहरगढ़ रेस्टोरेंट में सीसीटीवी कैमरे लगे हैं लेकिन इन सीसीटीवी कैमरों के रखरखाव के लिए कोई कर्मचारी नियुक्त नहीं किया गया है. लिहाजा इन होटलों के भी सीसीटीवी बंद पड़े हैं. ऐसे में अब आप अनुमान लगाइए कि देश औऱ दुनिया से राजस्थान पहुंचने वाले पर्यटकों को कैसे सुरक्षा मिलेगी?

घाटे में चल रहे विभाग के होटल
बात अगर पर्यटन विकास निगम के होटलों की करें तो प्रदेश में विभाग के करीब 29 होटल चालू स्थिति में हैं. करीब 45 होटलें बंद पड़े हैं. जो होटल चालू हैं, उनमें कंप्यूटर ऑपरेटर नहीं हैं. होटल में ठहरने के लिए पर्यटक मेल से जानकारी मांगते हैं लेकिन उन्हें कोई जवाब नहीं मिलता. ऐसे में पर्यटक निजी होटलों का रुख करते हैं. यह मुख्य वजहें हैं कि विभाग के होटल घाटे में चल रहे हैं. पर्यटन विभाग लापरवाही की वजह से ही विभाग घाटे में चल रहा है और पर्यटकों की सुरक्षा भी खतरे में है. हालांकि इस बारे में विभाग के अधिकारियों से बात करने की कोशिश की गई लेकिन कोई अधिकारी कुछ बोलने को तैयार नहीं है.