13 साल के प्रेम के इन आविष्कारों से अब नेत्रहीन लोगों को सहारे की जरूरत नहीं

 प्रेम ने नेेत्रहीन लोगों के लिए कैप, जूते और टी-शर्ट बनाए हैं जिनमें सेंसर लगा है. जिससे कोई भी चीज ये कैप, जूते या टी-शर्ट पहनने वाले के सामने आती है तो ये वाइब्रेट करने लगते हैं.

13 साल के प्रेम के इन आविष्कारों से अब नेत्रहीन लोगों को सहारे की जरूरत नहीं
प्रेम बरोटे ने नेत्रहीन लोगों के लिए कैप, जूते और टी-शर्ट बनाए हैं

वड़ोदरा: गुजरात (Gujarat) के वड़ोदरा (Vadodara) में 13 साल के प्रेम बोराटे ने नेत्रहीन लोगों के ऐसी कुछ चीजें बनाई हैं जिससे नेत्रहीन लोगों को अब चलने के लिए किसी दूसरे का सहारा नहीं लेना पड़ेगा. प्रेम ने नेत्रहीन लोगों के लिए कैप, जूते और टी-शर्ट बनाए हैं जिनमें सेंसर लगा है. जिससे कोई भी चीज ये कैप, जूते या टी-शर्ट पहनने वाले के सामने आती है तो ये वाइब्रेट करने लगते हैं और इसे पहनने वाले व्यक्ति को पता चल जाता है कि आगे कुछ है. आपको बता दें कि ड्राइवर लेस कार में भी इसी प्रकार की तकनीक का इस्तेमाल होता है. कार में सेंसर लगे होते हैं और जब भी कोई चीज कार के रास्ते में आती है तो कार अपना रास्ता अपने आप बदल लेती है.

प्रेम अभी 7वीं कक्षा में पढ़ते हैं. प्रेम ने अपने घर को ही अपनी प्रयोगशाला (Laboratory) बना लिया है. प्रेम का कहना है कि मैंने ये सबकुछ बनाना इंटरनेट के जरिए सीखा है. प्रेम जब चौथी क्लास में थे तभी से उनको नए-नए इलेक्ट्रानिक सामान बनाने का शौक है. प्रेम ने इसके अलावा कई प्रकार के ड्रोन भी बनाए हैं. प्रेम ने एंबुलेंस ड्रोन, एग्रीकल्चर ड्रोन और फायर फाइटिंग ड्रोन जैसे ड्रोन बनाए हैं. प्रेम ने ड्रोन इन्वेंटरी नाम से अपनी एक वेबसाइट भी बनाई है. प्रेम के माता-पिता ने बताया कि हमें लगता है कि हम नोबल प्राइज़ विनर वेंकट रमन के घर में रहते हैं.