close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

उड़ीसा में कटा देश का सबसे बड़ा ट्रैफि‍क चालान, जुर्माने की रकम जानकर आप भी कहेंगे OMG

Motor Vehicle Act : यह चालान उड़ीसा (Odisha) में काटा गया, जोकि देश का सबसे बड़ा ट्रैफि‍क चालान बन गया है. यह चालान दो या तीन लाख का नहीं, बल्कि पूरे साढ़े 6 लाख रुपये का काटा गया है. यह चालान भी एक ट्रक का काटा गया, जिसे कई सारे ट्रैफि‍क रूल्‍स का उल्‍लंघन करते हुए पकड़ा गया. हालांकि यह चालान बीते 10 अगस्त को काटा गया था. 

उड़ीसा में कटा देश का सबसे बड़ा ट्रैफि‍क चालान, जुर्माने की रकम जानकर आप भी कहेंगे OMG

संबलपुर (अजयनाथ): नए मोटर व्‍हीकल एक्‍ट (Motor Vehicle Act) के लागू होने के बाद यातायात नियमों का उल्‍लंघन करने वाले वाहनों का भारी-भरकम चालान (Traffic Challan) काटा जा रहा है, लेकिन पुराने मोटर व्‍हीकल एक्‍ट के दौरान भी एक ट्रक का भारी-भरकम चालान काटा गया. यह चालान उड़ीसा (Odisha) में काटा गया, जोकि देश का सबसे बड़ा ट्रैफि‍क चालान बन गया है. यह चालान दो या तीन लाख का नहीं, बल्कि पूरे साढ़े 6 लाख रुपये का काटा गया है.

यह चालान भी एक ट्रक का काटा गया, जिसे कई सारे ट्रैफि‍क रूल्‍स का उल्‍लंघन करते हुए पकड़ा गया. हालांकि यह चालान बीते 10 अगस्त को काटा गया था. 

यह चालान काटा गया उड़ीसा के संबलपुर (Sambalpur) में. संबलपुर क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय द्वारा विभिन्न ट्रैफि‍क नियमों का उल्‍लंघन करने पर एक ट्रक के चालक और मालिक पर 6.53 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया. हालांकि यह चालान बीते 10 अगस्त को काटा गया था. यानि संशोधित मोटर वाहन अधिनियम के लागू होने से पहले यह चालान काटा गया. इस ट्रक पर पुराने मोटर वाहन अधिनियम का उल्लंघन करने के लिए जुर्माना लगाया गया. दरअसल, नगालैंड (Nagaland) में पंजीकृत एक ट्रक का संबलपुर में परिवहन कार्यालय की प्रवर्तन टीम द्वारा उस वक्‍त चालान किया गया, जब इस वाहन को कई यातायात नियमों का उल्लंघन करते हुए पाया गया. ट्रक के मालिक की पहचान नागालैंड के फेक टाउन की बेथेल कॉलोनी निवासी शैलेश शंकर लाल गुप्ता के रूप में की गई है, जबकि चालक दिलीप कर्ता झारसुगुड़ा का रहने वाला है.

यह भी देखें:

सूत्रों के अनुसार, आरटीओ ने उस पर बिना रोड टैक्स के वाहन चलाने, बिना वाहन बीमा, वायु और ध्वनि प्रदूषण का उल्लंघन करने और मालवाहन पर यात्रियों को ले जाने के नियमों का उल्‍लंघन करने के तहत चालान काटा. इसके अलावा वाहन ने परमिट शर्तों का भी उल्लंघन किया.