close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्ट्र चुनाव: पोलिंग बूथ पर पहुंची वोटर, तो अधिकारी बोला, 'आप मर चुकी हैं, वोट नहीं डाल सकतीं'

वोटर यह सुनकर हैरान रह गईं क्योंकि अभी 15 दिन पहले ही उन्होंने अपना नया वोटिंग कार्ड बनवाया था. 

महाराष्ट्र चुनाव: पोलिंग बूथ पर पहुंची वोटर, तो अधिकारी बोला, 'आप मर चुकी हैं, वोट नहीं डाल सकतीं'
(प्रतीकात्मक फोटो)

मुंबई: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव (Maharashtra Assembly Elections 2019) के लिए सोमवार को 288 सीटों पर हो रही वोटिंग के दौरान एक अजीबो गरीब मामला सामने आया.  एक मतदाता को यह कह वोट डालने की इजाजत नहीं दी गई वह मर चुका है और अब वोट देेने का उसका अधिकार नहीं रहा. 

विनोद कुमार मोदी और उनकी पत्नी मंजुला मोदी बांद्रा के माउंट मेरी इलाके में रहते है और पिछले 35 सालों से वोट डाल रहे हैं. लेकिन मंजुला और विनोद जब सोमवार को वोट डालने गए तो मंजूला को वोट डालने नहीं दिया गया. उनसे कहा गया कि वह मर चुकी हैं और अब वोट देने का अधिकार नहीं रखतीं. 

मंजुला यह सुनकर हैरान रह गईं क्योंकि अभी 15 दिन पहले ही उन्होंने अपना नया वोटिंग कार्ड बनवाया था. ये पहला मौका नही था, जब मंजुला जी के साथ ऐसा हुआ हो, इससे पहले लोकसभा चुनावों में भी उन्हें मृत बताकर वोट नही करने दिया गया था. 

इसके बाद ही उन्होंने अभी 15 दिन पहले नया वोटर आईडी कार्ड बनाया था. दंपत्ति का कहना है कि वैसे तो सब नेता कहते है कि वोट कीजिये लेकिंन जब हमे वोट ही नही करने दिया जाएगा तो फिर आप क्या अच्छे देश की कल्पना कर सकते है. अगर चुनाव लोकतंत्र का सबसे बड़ा पर्व है तो इसमें सबकी हिस्सेदारी होनी चाहिए. ये सब सिस्टम की गड़बड़ी है.

बता दें सोमवार को महाराष्ट्र की 288 सीटों पर वोट डाले जा रहें हैं. चुनाव आयोग ने 966,661 मतदान केंद्र बनाए हैं और राज्य में मतदान के लिए वीवीपैट ईवीएम की कुल संख्या 135,021 है. बता दें महाराष्ट्र में मैदान में उतरे कुल 3,237 उम्मीदवारों में से केवल 236 महिलाएं हैं और शेष 3,001 पुरुष हैं. 

उम्मीदवारों में, भाजपा ने 164, शिवसेना ने 126, कांग्रेस ने 147, राकांपा ने 121, मनसे ने 101, बसपा ने 262, वीबीए ने 288, सीपीआई ने 16, सीपीआई (एम) ने 8, अन्य पंजीकृत दलों ने 604 उम्मीदवार उतारे हैं जबकि शेष 1,400 निर्दलीय उम्मीदवार हैं.

राज्य के कुल 8.97 करोड़ मतदाताओं में से 4.68 करोड़ पुरुष और 4.28 करोड़ महिलाएं हैं, साथ ही 2,634 ट्रांसजेंडर मतदाता हैं. महाराष्ट्र में राज्य पुलिस और केंद्रीय बलों के 3 लाख से अधिक कर्मियों की तैनाती करके सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं.