close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अपने जन्मदिन पर पीएम मोदी ने छुए मां के पैर, आशीर्वाद के साथ मिले 501 रुपये

पीएम मोदी ने अपनी मां के साथ लंच भी किया. घर के बाहर पीएम ने आम लोगों से भी बात की और उनको ऑटोग्राफ भी दिए. 

अपने जन्मदिन पर पीएम मोदी ने छुए मां के पैर, आशीर्वाद के साथ मिले 501 रुपये
अपनी मां के पैर छूते पीएम नरेंद्र मोदी

अहमदाबाद: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने अपने 69वां जन्मदिन पर गांधीनगर (Gandhinagar) जाकर अपनी मां हीराबेन मोदी (Heeraben Modi) से मुलाकात कर उनका आशीर्वाद लिया. पीएम मोदी की मां ने उन्हें आशीर्वाद के साथ ही 501 रुपये भी दिए. पीएम मोदी ने अपनी के साथ लंच भी किया. घर के बाहर पीएम ने आम लोगों से भी बात की और उनको ऑटोग्राफ भी दिए. 

इससे पहले नरेंद्र मोदी अपने जन्मदिन पर अपने गृहराज्य गुजरात में ही रहे और कई कार्यक्रमों में शामिल हुए.  केवडिया में सरदार सरोवर बांध के पास  एक जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आज के दिन मां नर्मदा के दर्शन होना बड़ी बात है. उन्होंने कहा कि प्रकृति के साथ रहते हुए भी विकास किया जा सकता है. 

पीएम मोदी खलवानी इको-टूरिज्म मै सैर का आनंद लिया.उसके बाद वे केवडिया के कैक्टस गार्डन गए.प्रधानमंत्री नरेंद्र सरदार सरोवर बांध पहुंचे. पीएम मोदी ने एकता नर्सरी का दौरा किया. पीएम मोदी ने नर्मदा की पूजा अर्चना भी की. गरुडेश्वर मंदिर में पीएम मोदी ने पूजा अर्चना भी की.


Caption

जनसभा को किया संबोधित
सरदार सरोवर बांध के पास एक जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आज के दिन मां नर्मदा के दर्शन होना बड़ी बात है. उन्होंने कहा कि प्रकृति के साथ रहते हुए भी विकास किया जा सकता है. 

पीएम मोदी ने कहा, 'हमारी संस्कृति के अनुसार पर्यावरण की रक्षा करते हुए भी विकास हो सकता है. प्रकृति हमारे लिए आराध्य है, प्रकृति हमारा आभूषण है.'

modi
फोटो साभार - @BJP4India

पीएम मोदी ने कहा आज एक तरफ सरदार सरोवर बांध है, बिजली उत्पादन के यंत्र हैं तो दूसरी तरफ एकता नर्सरी, बटर-फ्लाई गार्डन जैसी इको-टूरिज्म से जुड़ी सुंदर व्यवस्थाएं हैं. इन सबके बीच सरदार पटेल जी की भव्य प्रतिमा हमें आशीर्वाद देती नजर आ रही है. 

हमने पहली बार सरदार सरोवर बांध को पूरा भरा हुआ देखा है. एक समय था जब 122 मीटर के लक्ष्य तक पहुंचना ही बड़ी बात थी. लेकिन 5 वर्ष के भीतर 138 मीटर तक सरदार सरोवर का भर जाना, अद्भुत और अविस्मरणीय है.