close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान निकाय चुनाव के हाइब्रिड फार्मूले में आंशिक संशोधन होगा: कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे

कांग्रेस प्रभारी अविनाश पाण्डेय ने मीडिया से अनौपचारिक बातचीत के दौरान इससे संबंधित किसी भी तरह के विवाद से इंकार किया.

राजस्थान निकाय चुनाव के हाइब्रिड फार्मूले में आंशिक संशोधन होगा: कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे
राजस्थान प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अविनाश पाण्डेय. (फोटो साभार: twitter)

नई दिल्ली: राजस्थान(Rajasthan) में हाइब्रिड मेयर फार्मूले(Hybrid Mayor Formula) को लेकर अब विवाद थमता नजर आ रहा है. क्योंकि हाइब्रिड फार्मूला में जल्द ही आंशिक संशोधन कर नया फार्मूला लागू होगा. 

कांग्रेस प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे(Awinash Pandey) ने आलाकमान के निर्देश के बाद सब कमेटी के चेयरमैन शांति धारीवाल(Shanti Dhariwal),  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत(Ashok Gehlot) और सचिन पायलट(Sachin Pilot) से विचार विमर्श कर इस फैसले पर आंशिक संशोधन की सहमति बना ली है.

पांडे ने बुधवार को अनौपचारिक बातचीत में कहा कि यह फार्मूला 2009 में पहली बार मेयर के सीधे चुनाव के दौरान लागू किया गया था लेकिन इस बार कैबिनेट में किसी गफलत के कारण पूरा पढ़ा नही गया इसलिए सारा कन्फ्यूजन हुआ. लेकिन इस मुद्दे को काफी तूल देकर और मंत्रियों ने बयानबाजी कर बड़ा बना दिया था. पांडे ने बातचीत के दौरान स्वीकार किया कि सबसे बातचीत कर ली गई है और इसका हल निकाल लिया गया है. निकाय चुनाव की आचार संहिता लागू होने से पहले इसमें जरूरी संशोधन कर लिया जाएगा.

पांडे ने बताया कि इस फॉर्मूले में मुख्यमंत्री का कोई रोल नहीं था. शांति धारीवाल(Shanti Dhariwal) की अध्यक्षता वाली सब कमेटी का यह फैसला था और यह कमेटी जल्द इस को संशोधित कर लेगी. संशोधन के बाद जो पार्षद चुनकर आएंगे उन्हीं में से मेयर बन सकेंगे. 

इस मामले में उपजे विवाद पर पांडे ने साफ किया कि कांग्रेस पार्टी में लोकतंत्र है इसलिए सबको अपनी बात कहने का हक है. इसका मतलब कोई विरोधाभास या मतभेद होना नहीं है.