जैसलमेर: पंचायत पुनर्गठन का मामला, बीजेपी ने जताया विरोध

पंचायतों के पुनर्गठन को लेकर भारतीय जनता पार्टी विरोध जता रही है. इस सम्बंध में भाजपा नेताओं ने विरोध जुलूस निकाला.

जैसलमेर: पंचायत पुनर्गठन का मामला, बीजेपी ने जताया विरोध
जिला कलेक्टर के आश्वासन के बाद भाजपा का धरना प्रदर्शन स्थगित

जैसलमेर: जिले में पंचायतों के पुनर्गठन को लेकर भारतीय जनता पार्टी विरोध जता रही है. इस सम्बंध में भाजपा नेताओं ने बड़ी संख्या में इकट्ठा होकर विरोध प्रदर्शन किया. इस दौरान पूर्व विधायक सांगसिंह, पूर्व विधायक छोटूसिंह भाटी और जिलाध्यक्ष जुगलकिशोर व्यास के नेतृत्व में भाजपा पदाधिकारिओं और कार्यकर्ताओं ने विरोध जुलूस निकाला जो हनुमान चौराहे से होता हुआ कलेक्ट्रेट कार्यालय पहुंचा.

दरअसल लगातार जिले में पंचायतों के पुनर्गठन को लेकर बीजेपी नेता विरोध जताते आ रहे हैं. इसी कड़ी में भाजपा नेताओं ने कलेक्ट्रेट के सामने तीन दिवसीय धरना भी दिया था. इस विरोध प्रदर्शन के आगे बढ़ाते हुए अब ये विरोध जुलूस निकाल कर सरकार का ध्यान केंद्रित करने की कोशिश की गई. विरोध जुलूस के कलेक्ट्रेट कार्यालय पहुंचने पर एक प्रतिनिधिमंडल अपनी मांगे लेकर जिला कलेक्टर से मिला और सभी बिंदुओं पर विस्तृत चर्चा की.

इस दौरान पूर्व विधायक छोटूसिंह भाटी ने कहा कि पंचायतों का पुनर्गठन नियम विरुद्ध हो रहा है. जिस गांव की जनसंख्या ज्यादा हो उसे पंचायत मुख्यालय बनाने का नियम है, लेकिन इन्होंने जो गांव आबादी क्षेत्र भी नही है उसे पंचायत मुख्यालय बना दिया है. वही पूर्व विधायक एवं किसान नेता सांगसिंह ने नहरी किसानों की समस्या से अवगत कराते हुए कहा की बीजाई का समय होने के बावजूद नहर से मिट्टी नहीं निकाल उसमें पानी छोड़ देना जिससे टेल पर बैठे किसानों को पानी नहीं मिल रहा है. साथ ही पिछले दिनों टिड्डी दल के हमलों से किसानो की खड़ी फसले ख़राब हो गयी उसके लिए उचित मुआवजे की मांग रखी.

आपको बता दें कि भाजपा नेताओं की मांगों पर जिला कलेक्टर नमित मेहता ने आश्वासन दिया कि पंचायत परिसीमन में नियमो को ध्यान में रखते हुए ही परिसीमन किया जाएगा और टिड्डी दल के हमलों से फसली खराबे के लिए सर्वे करवा कर उचित मुआवजे के लिए सरकार को पेश किया जाएगा. जिला कलेक्टर के आश्वासन के बाद भाजपा ने अपना धरना प्रदर्शन स्थगित कर दिया है.