जयपुर: वेतन के लिए तरस रहे हैं कस्तूरबा गांधी स्कूल में कार्यरत संविदाकर्मी, रखी मांग

प्रदेशभर के आवासीय विद्यालयों में विभिन्न पदों पर संविदा पर लगे कर्मचारियों को जनवरी माह से ही वेतन का भुगतान नहीं हो पाया है.

जयपुर: वेतन के लिए तरस रहे हैं कस्तूरबा गांधी स्कूल में कार्यरत संविदाकर्मी, रखी मांग
संविदा कर्मियों ने बुधवार को शिक्षा संकुल में शिक्षा अधिकारियों को ज्ञापन सौंपा.

जयपुर: प्रदेश के करीब 200 कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में संविदा पर काम कर रहे करीब 15 सौ से ज्यादा संविदा कर्मी पिछले 9 महीनों से वेतन के लिए तरस रहे हैं. प्रदेशभर के आवासीय विद्यालयों में विभिन्न पदों पर संविदा पर लगे कर्मचारियों को जनवरी माह से ही वेतन का भुगतान नहीं हो पाया है. जिसके चलते अब इन संविदा कर्मियों के सामने आर्थिक तंगी का संकट खड़ा हो गया है. 

कम्प्यूटर ऑपरेटर, चौकीदार, हैड कुक, कुक हेल्पर, सहायक सहित कई पदों पर सी-डेस्क प्लेसमेंट एजेंसी के मार्फत लगे इन संविदा कर्मियों ने बुधवार को शिक्षा संकुल में शिक्षा अधिकारियों को ज्ञापन सौंपा.

भूखों मरने की है नौबत
संविदा कर्मियों ने बताया कि लंबे समय से अल्प वेतन पर काम कर रहे हैं. लेकिन अब तो वेतन मिलना ही बंद हो गया है. ऐसे में अब परिवार के सामने भूखों मरने की नौबत आ गई है.

शिक्षा संकुल पर किया प्रदर्शन 
जयपुर के कस्तूरबा आवासीय विद्यालयों में संविदा पर लगे कर्मचारियों ने आज शिक्षा संकुल पर प्रदर्शन भी किया. हालांकि अधिकारियों ने इन संविदा कर्मियों को सात दिन में समस्या के समाधान का आश्वासन दिया. जिसके बाद इन संविदाकर्मियों ने अपना धरना समाप्त कर लिया.

खड़ा हो गया आर्थिक संकट
चौकीदार बजरंग लाल शर्मा ने बताया कि पिछले 9 महीनों से वेतन नहीं मिलने से आर्थिक संकट खड़ा हो गया है. इसके साथ ही 4 साल पहले 10 फीसदी वेतन बढ़ाने का वादा किया था, लेकिन वो वेतन आज तक नहीं बढ़ा. उन्होंने वेतन मिलना मुश्किल होने की बात कही.