close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बारां जेल में विचाराधीन कैदी की मौत

कैदी की तबीयत खराब होने की वजह से उसे छबड़ा राजकीय अस्पताल में भर्ती करवाया गया था. उपचार के दौरान कैदी की मौत हो गई. जेल प्रशासन ने बताया की कैदी बुद्धा रेबारी की डोडा चूरा तस्करी मामले में गिरफ्तारी की गई थी.

बारां जेल में विचाराधीन कैदी की  मौत
विचारधीन कैदी की मौत

बारां: छबड़ा उपकारागृह में विचाराधीन कैदी की मौत का मामला सामने आया है. कैदी की तबीयत खराब होने की वजह से उसे छबड़ा राजकीय अस्पताल में भर्ती करवाया गया था. उपचार के दौरान कैदी की मौत हो गई. जेल प्रशासन ने बताया की कैदी बुद्धा रेबारी की डोडा चूरा तस्करी मामले में गिरफ्तारी की गई थी. वहीं मेडिकल बोर्ड़ की टीम ने शव का पोस्टमार्ट किया और शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया है

जानकारी के मुताबिक बारां के कवाई पुलिस ने अजमेर जिले के थाना पीसांगन के गांव मावडिया निवासी बुद्धा रेबारी को 17 अक्टूबर को पांच किलो 570 ग्राम अवैध डोडा-चूरा सहित एनडीपीएस एक्ट मे गिरफ्तार किया था,
19 अक्टूबर को इसे  छबड़ा उपकारागृह लाया गया था. बुद्धा रेबारी की 23 अक्टूबर को तबियत खराब बिगड़ गई जिसके बाद  जेल कर्मीयों ने उसे उपचार के लिए छबड़ा के राजकीय चिकित्सालय मे भर्ती करवाया जहां उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी होने पर दोबारा जेल भेज दिया गया.लेकिन एक बार फिर तबीयत बिगड़ गई,जिसके बाद फिर से उसे अस्पताल पंहुचाया गया. जंहा इलाज के दौरान कैदी की मौत हो गई.

छबडा एसीजेएम राजेश कुमार मीना की मौजूदगी में मेडिकल बोर्ड की टीम ने मृतक ओगड रेबारी का पोस्टमार्टम किया और शव परिजनों को सौंप दिया गया. वहीं परिजनों का आरोप है की कैदी को जेल प्रशासन ने इलाज मुहैया नहीं करवाया जिससे उसकी मौत हो गई.मृतक के भाई का कहना है की 22 अक्टूबर को ही उसकी मौत हो गई थी लेकिन जेल प्रशासन ने इलाज मुहैया नहीं करवाया. वहीं 176 सीआरपीसी एक्ट के तहत थाना छबड़ा में प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच एसीजेएम राजेश कुमार मीना द्वारा शुरू कर दी हैं।