close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बाड़मेर: निजी कंपनियों ने किया जनता के साथ फ्रॉड, लगाया लाखों का चूना

बाड़मेर की जनता का कहना है कि यह माल सस्ते हैं जिन्हें धोखा देकर ऊंचे दामों में बेचा जा रहा है. 4 दिन से चल रहे इस सेल में हजारों उपभोक्ताओं के लिए परेशानी का सबब बन गई है.

बाड़मेर: निजी कंपनियों ने किया जनता के साथ फ्रॉड, लगाया लाखों का चूना
माल पूरी तरह से रद्दी एवं उपयोग में लाए जाने लायक नहीं है.

भूपेश आचार्य/बाड़मेर: एक निजी कंपनी द्वारा बाड़मेर शहर के निजी होटल में सस्ते को माल ऊंचे दामों में बेचकर जनता के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है. दरअसल, कंपनी की ओर से मुंबई, सूरत, बेंगलुरु व दिल्ली में भारी बारिश के कारण शॉपिंग मॉल बंद हो जाने की वजह से स्टॉक को बाड़मेर में बेचा जा रहा है. जबकि माल पूरी तरह से रद्दी एवं उपयोग में लाए जाने लायक नहीं है.

वहीं, बाड़मेर की जनता का कहना है कि यह माल सस्ते हैं जिन्हें धोखा देकर ऊंचे दामों में बेचा जा रहा है. 4 दिन से चल रहे इस सेल में हजारों उपभोक्ताओं के लिए परेशानी का सबब बन गई है. यहां आने वाले उपभोक्ताओं के मुताबिक 'हम शहर से 70-80 किलोमीटर दूर रामसर, गागरिया, भाडखा, धनाऊ, चोहटन सहित अन्य गांव से सामान खरीदने के लिए आए लेकिन जब होटल पहुंचे तो नजारा कुछ और ही था. जो माल बिक्री के लिए लाया गया था वह पहले ही उपयोग में लिया हुआ और रद्दी माल था, जिसकी वजह से उन्हें निराश ही लौटना पड़ा.

इस मॉल में जेंट्स, लेडीज, किड्स के ब्रांडेड जींस, ट्राउजर, पेंट, वेस्टर्न टीशर्ट, अल्ट्रा मॉडर्न टॉपर सहित हजारों वैरायटी के कपड़े सहित महिलाओं के लिए कॉस्मेटिक, ज्वेलरी सहित अन्य सामान्य उपलब्ध था. लेकिन सामान को उपयोग में लिया जा सके ऐसी कोई भी वस्तु नहीं थी. जिस से आने उपभोक्ताओं को निराश लौटना पड़ रहा था. रामसर से आए लाखाराम बताते हैं कि प्रशासन द्वारा इस पर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए बाड़मेर की भोली-भाली जनता के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है. रद्दी एवं उपयोग में लिए गए कपड़े फिर से बेचे जा रहे है.

जब इस पूरे मामले में सेल मालिक से बात करनी चाही तो सेल मालिक वहां से भाग निकला. मुंबई में भयंकर बाढ़ बारिश से शॉपिंग मॉल बंद होने का हवाला देकर निजी कंपनी द्वारा बाड़मेर के निजी होटल में करोड़ों का माल कौड़ियों के दाम में बेचकर बाड़मेर की आम जनता के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है.