close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

वीरप्पा मोइली बोले,'राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष पद पर बने रहना चाहिए'

वीरप्पा मोइली ने कहा कि एक दो चुनावों के परिणामों से उस पार्टी का भविष्य तय नहीं हो सकता जिसने अपने लंबे इतिहास में कई उतार चढ़ाव देखे हैं.

वीरप्पा मोइली बोले,'राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष पद पर बने रहना चाहिए'
कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता एम वीरप्पा मोइली (फाइल फोटो)

हैदराबाद: कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता एम वीरप्पा मोइली ने मंगलवार को पार्टी अध्यक्ष के पद पर राहुल गांधी के बने रहने का समर्थन करते हुये कहा कि लोकसभा चुनावों में हार इस पार्टी के लिए वक्ती बात है.

मोइली ने कहा कि एक दो चुनावों के परिणामों से उस पार्टी का भविष्य तय नहीं हो सकता जिसने अपने लंबे इतिहास में कई उतार चढ़ाव देखे हैं. उन्होंने राहुल गांधी को पार्टी के लिए ‘प्रेरणा’ बताते हुए कहा कि कांग्रेस प्रमुख पद को छोड़ना उनके लिए मुनासिब नहीं होगा.

'कांग्रेस पार्टी के लिए उतार चढ़ाव बहुत सामान्य रहे हैं'
उन्होंने कहा, ‘केवल इसलिए कि (नरेंद्र) मोदी जीत गए हैं..यह अध्यक्ष पद छोड़ने की कोई वजह नहीं है. आखिरकार, कांग्रेस पार्टी के लिए उतार चढ़ाव बहुत सामान्य रहे हैं. हमने इन्हें कई बार देखा है.’

मोइली ने कहा कि कांग्रेस का भविष्य एक लोकसभा चुनाव और एक दो विधानसभा चुनाव तय नहीं कर सकते. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को पद से इस्तीफा देने की बात पर अड़ना नहीं चाहिये और उन्हें देश एवं पार्टी के भविष्य को दिशा देते रहना चाहिए.

तेलंगाना कांग्रेस ने राहुल गांधी को दिया समर्थन
इससे पहले कांग्रेस की तेलंगाना इकाई ने मंगलवार को राहुल गांधी के नेतृत्व में भरोसा व्यक्त किया। तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस कमेटी (टीपीसीसी) अध्यक्ष और नव निर्वाचित सांसद ए उत्तम कुमार रेड्डी ने कहा, ‘तेलंगाना पीसीसी की ओर से हम अनुरोध करते हैं। हमें राहुल गांधी जी के नेतृत्व में पूर्ण विश्चास है।’

रेड्डी ने बताया कि टीपीसीसी ने उनसे अपना त्यागपत्र वापस लेने की गुजारिश की और कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्लूयसी) के उस प्रस्ताव का समर्थन किया जिसमें उनसे पार्टी के पुनर्गठन को कहा गया था।

पीसीसी अध्यक्ष लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के अन्य विजयी रहे लोगों ए रेवंत रेड्डी और केवी रेड्डी के साथ संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। गौरतलब है कि गांधी ने 25 मई को हुई सीडब्ल्यूसी की बैठक में लोकसभा चुनाव में हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफे की पेशकश की थी।

खुद राहुल गांधी, कांग्रेस का गढ़ कही जाने वाली उत्तर प्रदेश की अमेठी लोकसभा सीट पर चुनाव हार गए पर केरल की वायनाड सीट पर उन्होंने जीत दर्ज की है।