close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: रियल एस्टेट कारोबारी के 25 ठिकानों पर इनकम टैक्स विभाग की रेड, मचा हड़कंप

जयपुर(Jaipur) में आयकर विभाग(Income Tax) की इन्वेस्टिगेशन विंग ने त्योहारी सीजन में बड़ी छापेमारी की है. 

जयपुर: रियल एस्टेट कारोबारी के 25 ठिकानों पर इनकम टैक्स विभाग की रेड, मचा हड़कंप
फॉर्म में निवेश करने वालों से जुड़े तथ्यों पर भी जांच जारी है.

जयपुर: जयपुर(Jaipur) में आयकर विभाग(Income Tax) की इन्वेस्टिगेशन विंग ने त्योहारी सीजन में बड़ी छापेमारी की है. लंबे समय बाद एक्टिव हुई अन्वेषण शाखा ने रियल स्टेट समूह(Real State Group) पर छापेमारी की है, यह कारोबारी समूह ढाई हजार करोड़ रुपए से अधिक का कामकाज जयपुर में करता है.  

आयकर विभाग की अन्वेषण शाखा को शुरुआती जांच में बड़ी संख्या में बेनामी लेनदेन और संपत्ति के दस्तावेज मिले हैं. विभागीय कार्रवाई इस सप्ताह के अंत तक चल सकती हैं.

रवि सूर्या ग्रुप के ठिकानों पर छापेमारी
बिल्डर्स डेवलपर्स के 25 ठिकानों पर  आयकर विभाग का एक्शन रहा. जगतपुरा, मालवीय नगर, एनआरआई कॉलोनी, टोंक रोड, सांगानेर, सी स्कीम में विभाग की टीम जांच करने पहुंची. आयकर विभाग की अन्वेषण शाखा ने रवि सूर्या रियल स्टेट समूह पर छापेमारी कर त्योहारी सीजन में कारोबारी और उद्यमियों में हड़कंप मचा दिया है. दीपावली से ठीक पहले हुई यह कार्रवाई काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है . 

250 लोगों की टीम कर रही जांच
ढाई सौ पुलिसकर्मियों ने 25 ठिकानों पर दबिश देकर रियल स्टेट समूह के काले कारनामों के दस्तावेज जप्त किए हैं. आयकर विभाग की अन्वेषण शाखा रवि सूर्या ग्रुप के प्रमोटर्स के आवास और दफ्तर पर जांच कर रही है. साथ ही पृथ्वीराज नगर में चल रहे प्रोजेक्टों पर भी आयकर विभाग की टीम पहुंची है.  

करोड़ों का बेनामी लेनदेन उजागर
शुरुआती जांच में आयकर विभाग को करोड़ों रुपए के बेनामी लेनदेन और जमीनों में निवेश के दस्तावेज हाथ लगे हैं.  आयकर विभाग की अन्वेषण शाखा को शक है कि बड़ी संख्या में धन का निवेश बेनामी संपत्ति में भी किया गया है. आयकर विभाग की टीम समूह के बैंक खातों , लॉकर्स और फॉर्म में निवेश करने वालों से जुड़े तथ्यों पर भी जांच कर रही है.  

आयकर विभाग को शक है कि रियल एस्टेट समूह की ओर से भेजे गए फ्लैट्स में बड़े पैमाने पर कर चोरी हुई है. विभाग कंपनी के चार्टर्ड अकाउंटेंट्स सहित वित्तीय प्रबंधन और सलाह देने वाली संस्थाओं से भी पूछताछ कर सकती है.