close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: बस और बोलेरो में जबरदस्त भिड़ंत से हुआ हादसा, 16 लोगों की हुई मौत

पदमगढ़ (सोलंकियातला) निवासी बस का मालिक नारायणराम भाखर व परिचालक रावलराम की भी मौत हो गई. 

राजस्थान: बस और बोलेरो में जबरदस्त भिड़ंत से हुआ हादसा, 16 लोगों की हुई मौत
हादसे में पदमगढ़ (सोलंकियातला) गांव के एक बस ड्राइवर और एक बस कंडक्टर की भी मौत हो गई.

शेरगढ़: जोधपुर-जैसलमेर राष्ट्रीय राजमार्ग 125 पर ढाढणिया गांव में बस और बोलेरो कैंपर पर गाड़ी के बीच हुई भीषण टक्कर के कारण हुए सड़क हादसे में 16 जनों की मौत हो गई जिनमें शेरगढ़ उपखण्ड क्षेत्र के 10 जने भी शामिल हैं. संतोष नगर (पाबूसर) निवासी 35 वर्षीय चनणाराम अपने 60 वर्षीय पिता कालूराम को बुखार आने पर उपचार के लिए अपने घर से 20 हजार रूपए लेकर एक निजी बस से जोधपुर के लिए रवाना हुए थे लेकिन पिता-पुत्र की बीच रास्ते ही मौत हो गई उनके जेब में रखे 20 हजार रूपए और मोबाईल भी गायब हो गया.                

हनवन्त नगर निवासी 30 वर्षीय फूल कंवर पत्नी भोमसिंह अपनी दो पुत्रियों के साथ राड़ो की ढाणी झंवर अपने चाचा के मौत होने पर वहां बारहवें की रस्म पर जाने के बाद वापस घर लौट रही थी. उस दौरान उनकी मौत हो गई तथा इनके साथ में उनकी तीन अन्य बहनो और दो दामाद की भी मौत हो गई जबकि उनकी एक बेटी ननिहाल में ही रह गई जिसके कारण वह मौत के मुंह में जाने से बच गई. उनकी 3 वर्षीय पुत्री पूजा उर्फ संतोष पुत्री भोमसिंह की भी मौत हो गई. 

पदमगढ़ (सोलंकियातला) निवासी बस का मालिक नारायणराम भाखर व परिचालक रावलराम की भी मौत हो गई. इसी प्रकार तिबना निवासी 30 वर्षीय स्वरूप कंवर पत्नी नरेंद्रसिंह भी अपने पिअर झंवर बारहवें पर गई हुई थी उनकी भी मौत हो गई. उनके परिवार की आर्थिक स्थिति कमजोर हैं. इसी प्रकार जैतसर निवासी सखीना पत्नी कम्में खां व एमणी पत्नी राणे खां व चांदसमा निवासी हुकमाराम पुत्र भेराराम की भी मौत हो गई.                   

उक्त सड़क हादसे में पदमगढ़ (सोलंकियातला) गांव के एक बस ड्राइवर और एक बस कंडक्टर की मौत हो गई. पदमगढ़ गांव गम में डूब हुआ था जब एक परिवार से चाचा भतीज की अर्थियां एक साथ उठी तो परिजन का चित्कार और विलाप देख सभी की आंखें भीग गई. परिजनो के साथ गांव के लोगों की बार-बार रुलाई फूट पड़ी. अंतिम संस्कार में कई लोगों की हिम्मत जवाब दे रही थी. इनकी मौत होने की हृदय विदारक हादसे की सूचना मिलने पर आस-पास के लोग व रिश्तेदार पदमगढ़ पहुंचे. शुक्रवार शाम को दोनो जनो का अंतिम संस्कार हुआ. गमगीन माहौल के बीच हर कोई स्तब्ध था.