close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: मृत्यु भोज में खाना खाने के बाद 80 लोग हुए फूड पॉइजनिंग का शिकार

बांदीकुई, बसवा और गुढाकटला के अस्पतालों में भर्ती कराया है. इधर घटना की गंभीरता को देखते हुए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पूरनमल वर्मा भी मौके पर पहुंच गए हैं.

राजस्थान: मृत्यु भोज में खाना खाने के बाद 80 लोग हुए फूड पॉइजनिंग का शिकार
स्वास्थ्य विभाग ने मृत्यु भोज कार्यक्रम में बने लड्डू और दाल के बड़े के सैम्पल लिए हैं.

दौसा: जिले के बांदीकुई उपखंड के फुलेला गांव में फूड प्वाइजनिंग का मामला सामने आया है. फूड प्वाइजनिंग से करीब 80 लोगों की तबीयत बिगड़ गई है. जिन्हें विभिन्न अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है. सभी बीमार लोगों को उल्टी, दस्त और पेट में दर्द की शिकायत है. बताया जा रहा है कि बांदीकुई उपखण्ड के फुलेला गांव में मृत्युभोज का कार्यक्रम था. ऐसे में ग्रामीणों एवं रिश्तेदारों ने मृत्यु भोज में खाना खाया था. इसके बाद शुक्रवार देर रात में ग्रामीणों एवं रिश्तेदारों की तबीयत खराब होने लगी तो उन्हें आसपास के अस्पतालों में भर्ती कराया गया. फिलहाल करीब 80 लोगों की तबीयत खराब है. 

जिन्हें बांदीकुई, बसवा और गुढाकटला के अस्पतालों में भर्ती कराया है. इधर घटना की गंभीरता को देखते हुए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पूरनमल वर्मा भी मौके पर पहुंच गए हैं और तीनों अस्पतालों में अतिरिक्त मेडिकल टीमें तैनात की गई हैं. साथ ही गांव में भी मेडिकल टीम को तैनात किया गया है. 

स्वास्थ्य विभाग ने मृत्यु भोज कार्यक्रम में बने लड्डू और दाल के बड़े के सैम्पल लिए हैं. जिन्हें जांच के लिए जयपुर भिजवाया गया है. गौरतलब है कि मृत्यु भोज पर पहले से ही सरकार द्वारा पाबंदी लगाई हुई है. उसके बावजूद भी ग्रामीण इलाकों में मृत्यु भोज के बड़े आयोजन होते रहते हैं लेकिन भू मृत्यु भोजों पर पाबंदी लगे इस पर प्रशासन के स्तर पर कोई कदम नहीं उठाए जाते जिसके चलते आए दिन मृत्यु भोज में होने वाले सामूहिक आयोजनों में फूड पॉइजनिंग का शिकार हो रहे हैं. 

पूर्व में भी इस तरह के आयोजन में कई बार फ़ूड पोइज़निंग की घटनाएं सामने आई हैं. दोसा के बांधों की उपकरण में फूड पॉइजनिंग का शिकार हुए लोगों ने पुलेला गांव निवासी पप्पू लाल सैनी के पिता की मृत्यु के बाद आयोजित मृत्यु भोज कार्यक्रम में खाना खाया था. जिसके बाद करीब 80 लोगों की तबीयत बिगड़ी. हालांकि, स्वास्थ्य विभाग ने सूचना पर तुरंत मोर्चा संभाला और मौके पर ही मेडिकल टीमें भेजकर लोगों का उपचार किया. वहीं बसवा गुडा कटला और बांदीकुई के सरकारी अस्पतालों में भी उपचार के लिए लोगों को भर्ती करवाया गया है.