close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: उपचुनावों के बाद निकाय चुनावों में भी जारी रहेगा बीजेपी और आरएलपी गठबंधन!

सतीश पूनिया ने जयपुर में बड़ा बयान दिया. पूनिया ने कहा कि शहरी निकायों में बीजेपी खुद बेहद मजबूत है लेकिन फिर भी पार्टी अपनी रणनीति पर चर्चा करेगी. 

राजस्थान: उपचुनावों के बाद निकाय चुनावों में भी जारी रहेगा बीजेपी और आरएलपी गठबंधन!
फाइल फोटो

जयपुर: लोकसभा चुनावों में बीजेपी और आरएलपी में गठबंधन हुआ जो उपचुनावों में भी जारी रहा. लेकिन अब सबसे बड़ा सवाल ये सामने आ रहा है कि क्या आरएलपी बीजेपी गठबंधन निकाय चुनावों में भी जारी रहेगा. बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने ईशारों इशारों में बड़ा बयान दिया है.

लोकसभा चुनावों में जब राजस्थान में कांग्रेस एक भी सीट नहीं जीत पाई तो इसके पीछे बीजेपी आरएलपी गठबंधन का बड़ा हाथ था. ऐसा माना गया कि बेनीवाल की वजह से प्रदेश में बीजेपी को बाड़मेर से लेकर नागौर और शेखावाटी के पूरे जाट बेल्ट में बड़ा फायदा मिला है. और ये गठबंधन उपचुनावों में भी जारी रहा. लेकिन अब निकाय चुनावों से पहले ये सवाल फिर उठने लगा है कि क्या आरएलपी बीजेपी गठबंधन निकाय चुनावों में भी जारी रहेगा. 

सतीश पूनिया ने जयपुर में बड़ा बयान दिया. पूनिया ने कहा कि शहरी निकायों में बीजेपी खुद बेहद मजबूत है लेकिन फिर भी पार्टी अपनी रणनीति पर चर्चा करेगी. मतलब पूनिया फिलहाल किसी भी तरह के पत्ते नहीं खोलना चाहते हैं. चलिए सतीश पूनिया के बयान के मायनों को समझने की कोशिश करते हैं.

सतीश पूनिया के बयान के मायने
तो पूनिया बेनीवाल को साफ संकेत देना चाहते है कि शहरी निकायों में बीजेपी मजबूत है. ऐसे में शहरी इलाकों में बार्गेनिंग की कोई संभावना नहीं है. बेनीवाल का मुख्य वोटबैंक ग्रामीण क्षेत्र में है. लिहाजा बीजेपी शहरी निकाय में ज्यादा भाव देने के मूड में नहीं है. पूनिया खुलकर गठबंधन होने या न होने पर नहीं बोल रहे हैं. शायद वह ग्रामीम निकायों में गठबंधन की संभावना को भी जिंदा रखना चाहते हैं. इधर पूनिया ने एक बार फिर बेनीवाल को बीजेपी नेताओं पर खुलकर बयानबाजी करने से बचने की नसीहत देते हुए गठबंधन धर्म निभाने को कहा है. हालांकि निकाय चुनावों में बीजेपी आरएलपी गठबंधन के भविष्य पर फिलहाल कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी.