close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: हाइब्रिड पर सरकार के स्पष्टीकरण को BJP ने बताया अपनी जीत, पूनिया ने कहा...

निकायों में मुखिया के चुनाव को लेकर सरकार की कभी हां कभी ना के बीच आखिरकार यूडीएच मंत्री ने स्पष्टीकरण जारी कर ही दिया है. 

राजस्थान: हाइब्रिड पर सरकार के स्पष्टीकरण को BJP ने बताया अपनी जीत, पूनिया ने कहा...
फाइल फोटो

जयपुर: हाइब्रिड फॉर्मूले पर सरकार के स्पष्टीकरण को बीजेपी ने बताया अपनी जीत लेकिन सरकार बोली, नहीं बदला कोई फैसला, केवल बीजेपी के दुष्प्रचार को साफ करने के लिए जारी किया गया है स्पष्टीकरण.

निकाय प्रमुखों के चुनाव के मामले में हाइब्रिड फार्मूले को लेकर भले ही यूडीएच मंत्री ने स्पष्टीकरण जारी कर दिया हो, लेकिन इसको लेकर बीजेपी की तरफ से सरकार और कांग्रेस दोनों पर ही हमले लगातार जारी है. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया का कहना है कि कांग्रेस तो खुद ही हाइब्रिड पार्टी है इसलिए उसका मन हाइब्रिड में अटक रहा है. उन्होंने कहा कि जनता कांग्रेस के इस घालमेल का चुनाव निकाय चुनाव में अपने वोट के जरिए देगी.

निकायों में मुखिया के चुनाव को लेकर सरकार की कभी हां कभी ना के बीच आखिरकार यूडीएच मंत्री ने स्पष्टीकरण जारी कर ही दिया है. यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल का कहना है कि गैर निर्वाचित पार्षद को निकाय प्रमुख बनाना जरूरी तो नहीं है, लेकिन अगर किसी सूरत में आरक्षित वर्ग का कोई प्रतिनिधि नहीं जीता है, तो बहुमत वाले बोर्ड की पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष अपनी ही पार्टी के उस वर्ग के किसी नेता को निकाय प्रमुख के चुनाव में खड़ा कर सकता है. सरकार द्वारा स्पष्टीकरण जारी करने के बाद बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने इसे विपक्ष की जीत बताया. पूनिया ने कहा कि पूरे प्रदेश में इस मुद्दे पर बीजेपी एक नवंबर को जो धरना प्रदर्शन करने वाली थी, उससे सरकार घबराई और घबरा कर सरकार ने अपना फैसला बदल लिया दिया है.

साथ ही सतीश पूनिया ने इस मामले में लोकतंत्र की लड़ाई करने के लिए कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट को भी बधाई दी. पूनिया ने कहा कि पायलट ने अपनी ही पार्टी के सरकार के खिलाफ जो स्टैंड रखा वह काबिले तारीफ था.

सरकार की तरफ से आए स्पष्टीकरण के बाद पूनिया ने कांग्रेस पर चुटकी लेने में भी कोई कसर नहीं छोड़ी. पूनिया ने कहा कि ए ओ ह्यूम की स्थापित कांग्रेस तो खुद एक वर्णसंकर पार्टी है और ऐसी हाइब्रिड पार्टी को जनता निकाय चुनाव में अपने वोट से सबक जरूर सिखाएगी. पूनिया ने कहा कि जिस तरह सरकार ने हाइब्रिड फार्मूले को लेकर अपनी मनमानी चलानी चाही, वह जनता को चुनाव तक याद जरूर रहेगा.

पूनिया कहते हैं कि इस मुद्दे पर बीजेपी जनता के बीच सरकार को लगातार एक्सपोज करेगी लेकिन सवाल यह भी है कि आखिर बीजेपी जनता के बीच किस बात को रखना चाहती है. जब यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल कहते हैं कि उन्होंने ऐसा कोई नियम पहले कभी लागू ही नहीं किया जो विधि सम्मत ना हो. यूडीएच मंत्री की मानें तो सरकार ने अपने फैसले में कोई बदलाव नहीं किया, बल्कि सिर्फ स्पष्टीकरण जारी किया है. ऐसे में क्या वाकई इसे बीजेपी अपनी जीत मानेगी और सरकार की हार बताकर इसे प्रचारित कर पाएगी?