close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: फसल खराबी को लेकर राज्यपाल को BJP प्रतिनिधिमंडल ने सौंपा ज्ञापन

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि अतिवृष्टि के कारण प्रदेश में फसलें खराब हुई हैं. किसानों को मुआवजा सही समय पर मिलने के लिए गिरदावरी जरूरी है.

राजस्थान: फसल खराबी को लेकर राज्यपाल को BJP प्रतिनिधिमंडल ने सौंपा ज्ञापन
सतीश पूनिया ने कहा कि अतिवृष्टि के कारण प्रदेश में फसलें खराब हुई हैं.

विष्णू शर्मा, जयपुर: भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया की अगुवाई में गुरुवार को भाजपा का प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल कलराज मिश्र से मिला. प्रतिनिधि मंडल ने राज्यपाल से राजस्थान में अतिवृष्टि से हुए फसल खराबे की गिरदावरी करवाने के लिए सरकार को निर्देश देने का आग्रह किया है. प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल को ज्ञापन भी सौंपा जिसमें कहा गया है कि प्रदेश के आधे से ज्यादा जिलों में फसलों को भारी नुकसान हुआ है. इन जिलों में कुल बुवाई की लगभग 80 प्रतिशत फसलें खराब हो गई हैं. कई संभागों में तो यह आंकड़ा 90 प्रतिशत तक पहुंच गया है. 

राज्य सरकार ने भी किसानों को बेहद निराश किया है. सरकार की संवेदनहीनता से गिरदावरी धीमी गति के कारण किसानों की फसलें खेतों में पड़ी है. राज्यपाल से आग्रह किया गया है कि वो सरकार को निर्देशित करें कि गिरदावरी 15 अक्टूबर तक पूरी हो और किसानों को मुआवजा राशि मिल सके. राज्यपाल से मिले प्रतिनिधि मंडल में प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया के साथ सांसद किरोड़ीलाल मीणा, सांसद भागीरथ चौधरी, महामंत्री भजनलाल, विधायक रामलाल शर्मा, निर्मल कुमावत, पूर्व विधायक और प्रदेश उपाध्यक्ष अल्का गुर्जर, वरिष्ठ नेता ओंकार सिंह लखावत शामिल थे. 

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि अतिवृष्टि के कारण प्रदेश में फसलें खराब हुई हैं. किसानों को मुआवजा सही समय पर मिलने के लिए गिरदावरी जरूरी है. प्रदेश में पटवारियों के पद खाली हैं, जिससे गिरदावरी रूकी पड़ी है. इससे साफ झलक रहा है कि सरकार किसानों की कतई हितैषी नहीं है. सतीश पुनिया के प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी संभालते ही पूरी बीजेपी जोश से भरी हुई है और हर मोर्चे पर सरकार को धेरने की पुरी तैयारी में है. हालांकि प्रदेश में निकाय चुनाव पर नजदीक हैं ऐसे में बीजेपी की सक्रियता ये भी बताती है कि बीजेपी विधानसभा चुनावों के हार को भूल कर निकाय चुनावों में कांग्रेस को करारी शिकस्त देने के मूड में है.