close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान सीएम अशोक गहलोत का केंद्र सरकार पर आरोप, कहा- RTI को किया कमजोर

सीएम अशोक गहलोत ने जयपुर में एक कार्यक्रम के दौरान केंद्र सरकार पर आरटीआई और अन्य संस्थानों को कमजोर करने का आरोप लगाया.

राजस्थान सीएम अशोक गहलोत का केंद्र सरकार पर आरोप, कहा- RTI को किया कमजोर
कार्यक्रम के दौरान मौजूद सीएम और अन्य अतिथि. (फोटो साभार: Twitter/Ashok Gehlot)

जयपुर: अब प्रदेश के लोगों को सरकारी योजनाओं (Government schemes) की जानकारी के लिए सूचना के अधिकार (Right To Information) का इस्तेमाल नहीं करना पड़ेगा. अब यह सारी जानकारियां एक पोर्टल पर आसानी से मिल सकेगी.

प्रदेश की आमजन को सरकार की सभी जनकल्याण योजनाओं की जानकारी एक जगह देने के लिए शुक्रवार को जनसूचना पोर्टल लांच हुई. इस दौरान सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) और डिप्टी सीएम सचिन पायलट (Sachin Pilot) भी मौजूद थे.

इस दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि जब गांधी जी (Mahatma Gandhi) के ऊपर अत्याचार हुआ था तो उन्होंने अपने अंदर गुस्सा पाला था. उन्होंने कहा कि मैं लोगों से अपील करता हूं कि सभी लोग अपने दिल के अंदर गुस्सा पालो. जब तक गुस्सा नहीं पालोगे तब तक बदलाव नहीं कर पाओगे. 

उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार (Central Government) न्याय व्यवस्था, चुनाव आयोग (Election Commission), ईडी और सीबीआई (CBI) जैसी संस्थाओं को प्रभावित कर रही है. उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार ने आरटीआई कानून में बदलाव कर अपने कारनामों को छिपाने में जुट गई है. 

कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार ने 2005 में सूचना का अधिकार देश को दिया. उन्होंने उम्मीद जताई की अब राजस्थान में शुरू हुआ जनसूचना पोर्टल अन्य राज्यों के लिए मिसाल बनेगा. उन्होंने केंद्र सरकार पर आरटीआई को कमजोर करने का आरोप लगाया.

कार्यक्रम के दौरान मौजूद डिप्टी सीएम सचिन पायलट आज बदले-बदले नजर आए. कार्यक्रम के दौरान उन्होंने सीएम अशोक गहलोत सरकार की जमकर तारीफ की. पायलट ने कहा कि सरकारी मशीनरी और अफसर भी वही हैं, लेकिन सरकार अब काम करके दिखा रही है.

कार्यक्रम में संयुक्त राष्ट्र संघ की भारत में समन्वयक रेनाटा लोक डेशालेन, पूर्व सूचना आयुक्त वजाहत हबीबुल्लाह, सामाजिक कार्यकर्ता अरूणा राय, सुशीला देवी, सन्दीप पाडे़, निखिल डे सहित सूचना के अधिकार के विशेषज्ञ मौजूद थे.