close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: उपभोक्ताओं की बढ़ सकती है परेशानी, इस नियम के चलते अब देर से मिलेगा गैस सिलेंडर!

एलपीजी डिस्ट्रीब्यूटर्स ने ट्रैफिक डीसीपी राहुल प्रकाश से मुलाकात कर एलपीजी लोडिंग गाड़ियों को इस नियम में शामिल नहीं करने की मांग की है. 

राजस्थान: उपभोक्ताओं की बढ़ सकती है परेशानी, इस नियम के चलते अब देर से मिलेगा गैस सिलेंडर!
एंट्री के नए नियम से प्लांट से गोदाम तक डिलीवरी में तीन दिन लगेंगे. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

जयपुर: अधिकारियों से LPG डिस्ट्रीब्यूटर्स की बातचीत का कोई हल नहीं निकला तो आने वाले दिनों में आपको LPG के सिलेंडर्स के लिए हफ्ते भर से ज्यादा का वक्त लग सकता है. दरअसल, ट्रैफिक पुलिस ने शहर में भारी वाहनों के साथ ही डीजल-पेट्रोल, LPG और अन्य ज्वलनशील पदार्थों की शहर में एंट्री के लिए रात 11 बजे से सुबह 7 बजे तक का ही वक्त दिया है. पहले इसमें छूट हुआ करती थी.

शहर में भारी वाहन एंट्री के नए नियमों में रसोई गैस लोडिंग वाहनों को भी शामिल करने से रसोई गैस वितरण व्यवस्था चरमरा सकती है. ट्रैफिक पुलिस ने भारी वाहनों की एंट्री बैन करने के साथ ही एलपीजी, पेट्रोल-डीजल और अन्य ज्वलनशील लोडिंग वाहनों की एंट्री के लिए रात 11 से सुबह 7 बजे तक ही समय तय किया है. जबकि पुराने नियमों के अनुसार पहले इन वाहनों को छूट थी. 

एलपीजी डिस्ट्रीब्यूटर्स ने भी इस फैसले पर हैरानी जताते हुए कहा कि ये उपभोक्ता और रसद वितरण से जुड़ा मामला है. यदि एलपीजी वाहनों को भी इन नियमों में शामिल किया गया तो सिलेंडर लोडिंग वाहन को एक गोदाम तक डिलीवरी पहुंचाने में ही दो से तीन दिन लग जाएंगे. ऐसा होने पर एजेंन्सियों पर वितरण का बैकलॉग बढ़ेगा और रसोई गैस उपभोक्ताओं को परेशानी होगी. 

एलपीजी डिस्ट्रीब्यूटर्स ने ट्रैफिक डीसीपी राहुल प्रकाश से मुलाकात कर एलपीजी लोडिंग गाड़ियों को इस नियम में शामिल नहीं करने की मांग की है. राजस्थान एलपीजी डिस्ट्रीब्यूशन फैडरेशन के महासचिव कार्तिकेय गौड़ ने बताया कि शहर में 22 लाख एलपीजी गैस उपभोक्ता हैं. 

25 से 30 हजार सिलेंडरों की लोडिंग और डिलीवरी रोज होती है. एंट्री के नए नियम से प्लांट से गोदाम तक डिलीवरी में तीन दिन लगेंगे. गोदाम से घरों में डिलीवरी होने में 7 दिन लग सकते हैं. कार्तिकेय गौड़ ने बताया कि 2003 के आदेश के मुताबिक एलपीजी, पेट्रोल-डीजल और अन्य ज्वलनशील लोडिंग वाहन किसी भी शहर में 24 घंटे एंट्री कर सकते थे. इसी नियम का हवाला देते हुए हमने छूट देने की मांग की है. ट्रैफिक डीसीपी ने रविवार तक एंट्री में छूट का आश्वासन दिया है, इसके बाद फैसला रिव्यू मीटिंग में किया जाएगा.

-- सतेंद्र यादव, न्यूज डेस्क