close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: शिक्षा मंत्री का बड़ा बयान, कहा- BJP पर RSS ने कर लिया है कब्जा

केंद्र में मंत्री आरएसएस का बनता है और प्रदेश में अध्यक्ष भी आरएसएस का बनता है. पूरा का पूरा मामला आरएसएस के भारती भवन से आनी पर्चियों के हिसाब से हो रहा है. 

राजस्थान: शिक्षा मंत्री का बड़ा बयान, कहा- BJP पर RSS ने कर लिया है कब्जा
केंद्र में मंत्री आरएसएस का बनता है और प्रदेश में अध्यक्ष भी आरएसएस का बनता है- डोटासरा

संदीप केडिया, झुंझुनूं: कांग्रेस के तेज तर्रार नेताओं में शुमार और प्रदेश के शिक्षा राज्य मंत्री ने ना केवल भाजपा, आरएसएस, बल्कि भाजपा नेता राजेंद्र राठौड़ पर जबरदस्त हमला बोला है. उन्होंने यहां तक आरोप लगाया है कि अब राजस्थान में भाजपा का निपटारा हो गया है. भारती भवन से आने वाली पर्चियों के लिहाज से सारा काम हो रहा है. झुंझुनूं के मंडावा में उप चुनाव को लेकर चल रहे अपने दौरों के दौरान गोविंद सिंह डोटासरा ने जमकर आग उगली. 

शिक्षा राज्य मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा एक बार फिर आक्रामक मुद्रा में आ गए है और भाजपा पर जबरदस्त हमला बोला है. उन्होंने कहा है कि भाजपा का रास्थान में निपटारा हो रहा है. पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे नए प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां को अध्यक्ष मानने को तैयार नहीं है. यही कारण है कि आज दिन तक ना तो नमस्कार किया है और ना ही फोन पर बधाई दी है. उन्होंने कहा कि वसुंधरा राजे थी, तब तक राज्य में भाजपा थी. अब वो लंदन चली गई और आरएसएस ने पूरा कब्जा कर लिया है. 

केंद्र में मंत्री आरएसएस का बनता है और प्रदेश में अध्यक्ष भी आरएसएस का बनता है. पूरा का पूरा मामला आरएसएस के भारती भवन से आनी पर्चियों के हिसाब से हो रहा है. उन्होंने कहा कि अब वक्त आ गया है कि आरएसएस को सीधे रूप से चुनाव में आ जाना चाहिए. ताकि दूध का दूध और पानी का पानी हो जाए क्योंकि आरएसएस वाले भाजपा कार्यकर्ताओं को पास तक भटकने नहीं दे रहे हैं और उनका तिरस्कार हो रहा है. 

उन्होंने कहा कि पूर्व शिक्षा मंत्री प्रो. वासुदेव देवनानी ने हमेशा भारती भवन से आई पर्चियों के हिसाब से काम किया है. जब पर्ची आई हाफ पेंट का कलर बदल दिया. जब पर्ची आई साइकिल का कलर बदल दिया. यहां तक की पानीपत में हुए सत्ता के संघर्ष के युद्ध को ही धर्म का युद्ध बता दिया. मंडावा उप चुनाव ज्यों ज्यों नजदीक आ रहा है. भाजपा-कांग्रेस नेताओं की जुबान में तल्खी बढ़ रही है. वहीं अब पार्टियों से आगे बढ़कर नेताओं को भी निशाना बनाए जाने लगा है. शेखावाटी के दोनों तेज तर्रार नेताओं राजेंद्र राठौड़ और गोविंद डोटासरा में यह जुबानी जंग किस हद तक जाती है. यह तो आने वाला समय ही बताएगा.

झुंझुनूं में राठौड़ के नाम से ही चिढ़ते है लोग
शिक्षा राज्य मंत्री गोविंद डोटसरा के तीखे तीर यही नहीं पर नहीं रूके. उन्होंने प्रतिपक्ष उप नेता और मंडावा उप चुनाव प्रभारी राजेंद्र राठौड़ को भी आड़े हाथ लिया. उन्होंने कहा कि जब पिछली सरकार में वसुंधरा राजे से उनकी पटरी नहीं बैठ रही थी तो उन्होंने गिन-गिन कर दिन निकाले. हालात यह थे कि उनकी एसडीएम तक नहीं मानते थे. अब वसुंधरा राजे दूर गई तो वो मैन स्ट्रीम में आ गए लेकिन वो कांग्रेस के लिए अच्छा करते है. 

जहां जाते है कांग्रेस के लिए अच्छा करते हैं. खासकर झुंझुनूं में तो यह प्रमाण है क्योंकि झुंझुनूं में लोग राठौड़ के नाम से चिढ़ते है और अब उन्हें ही यहां का प्रभारी बना दिया. जिससे कांग्रेस का काम आसान कर दिया है. उन्होंने यहां तक कहा कि मंडावा में भाजपा के पास कभी भी उम्मीदवार नहीं रहा. पहले बसपा के सलीम को चुनाव लड़वाया, फिर निर्दलीय नरेंद्र कुमार को टिकट दी और अब कांग्रेस की बागी को मैदान में उतारा है. 

तबादले प्रताड़ित नहीं करने के लिए न्याय देने के लिए लिए
मंडावा में हुए ताबड़तोड़ तबादलों को लेकर भी शिक्षा मंत्री ने साफ किया कि किसी भी शिक्षक को प्रताड़ित नहीं किया गया है. बल्कि भाजपा सरकार में प्रताड़ित शिक्षकों को ना केवल मंडावा, बल्कि पूरे प्रदेश में न्याय दिया गया है. उन्होंने कहा कि बीजेपी के राज में भारती भवन से पर्ची आई तो कोई भी मानवता नहीं देखी गई. दिव्यांग और एकल महिलाओं को भी सैंकड़ों किलोमीटर दूर भेज दिया गया. जिन्हें अब वापिस न्याय दिलवाया जा रहा है. 

90 फीसदी तबादले ऑनलाइन आवेदन से
शिक्षा मंत्री ने उन आरोपों को भी नकारा है. जिसमें आरोप लगाए गए थे कि चुनाव जितने के लिए कांग्रेस तबादलों के जरिए प्रताडि़त और डरा रही है. शिक्षा मंत्री ने दावा किया है कि 90 प्रतिशत से अधिक तबादले ऑनलाइन आवेदन के हिसाब से किए गए है. वहीं पहली बार तबादला करने के बाद ऑनलाइन परिवेदनाएं ली गई है ताकि यदि कोई तबादला गलत हो गया तो उसे सुधारा जा सके. उन्होंने कहा कि आचार संहिता के कारण झुंझुनूं में अन्य जगहों के तबादले नहीं हुए हैं. चुनावों के बाद सीएम से परमिशन लेकर इस दिशा में कदम उठाया जाएगा.