close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: मंदी की मार के बीच बारिश में बर्बाद हुई किसानों की फसलें

बारां जिले में 60 से लेकर 100 फीसदी तक किसानों की फसलें खराब हुई हैं. सर्वाधिक नुकसान छबड़ा छीपाबड़ौद क्षेत्र में हुआ है जहां किसानों के खेत के खेत तबाह हो गए. 

राजस्थान: मंदी की मार के बीच बारिश में बर्बाद हुई किसानों की फसलें
उपखण्ड अधिकारी अंता के जनक सिंह का कहना है कि अतिवृष्टि से फसलों को बहुत नुकसान हुआ है.

राम मेहता, बारां: जिले के खेतो में तबाही और बर्बादी का मंजर साफ नजर आ रहा है. जिन खेतो में इस समय फसलें लहलहाती थी उनमें पानी भरा हुआ है. सितंबर महीने में हो रही लगातार बरसात के कारण जिले में मूंग, उड़द और सोयाबीन की फसलें पूरी तरह से बर्बाद हो गई हैं. मंदी के इस दौर में किसानों को इस फसल से काफी उम्मीद थी लेकिन लगातार बरसात ने किसानों की उम्मीदों पर पूरी तरह से पानी फेर दिया.

बारां जिले में 60 से लेकर 100 फीसदी तक किसानों की फसलें खराब हुई हैं. सर्वाधिक नुकसान छबड़ा छीपाबड़ौद क्षेत्र में हुआ है जहां किसानों के खेत के खेत तबाह हो गए. वहां कुछ नहीं बचा. 100 फीसदी फसलें खराब हो गई हैं. किशनगंज शाहाबाद और अटरू क्षेत्र में भी 80 फीसदी तक फसलें खराब हो गई हैं. अंता क्षेत्र में जरूर 60 फीसदी तक फसलें खराब हुई हैं. मंदी के साथ अतिवृष्टि की मार झेल रहा किसान अब मुआवजे के लिए सरकार का मुंह देख रहा है लेकिन गरीब किसान को मुआवजे से पहले फसल खराब के आकलन की कड़ी अग्निपरीक्षा से गुजरना होगा.

किसानों की हालत देखते हुए अब किसान संगठन भी लामबंद होने लगे हैं. कुछ किसान संगठनों ने जिला कलेक्टर को ज्ञापन देकर न सिर्फ मुआवजे की मांग की है बल्कि बारां जिले को अभावग्रस्त घोषित करने की भी मांग की है. किसानों को कहना है खेत में खड़ी मिर्ची, सोयाबीन सहित सभी खेतों में खड़ी फसल अतिवृष्टि के कारण खराब हो गई है और सरकार से मुआवजें की उम्मीद लगा रहें है.

उपखण्ड अधिकारी अंता के जनक सिंह का कहना है कि अतिवृष्टि से फसलों को बहुत नुकसान हुआ है. इसके लिए ग्राम सेवक, पटवारी, कृषि पर्यवेक्षक को सर्व करने के निर्देश दिए हैं. इसके बाद सर्वे सरकार को भेजा जाएगा. आगे जैसे ही निर्देश मिलेगें आगें की कार्रवाई की जाएगी. अतिवृष्टि से जिलें के किसान की फसल पूरी तरह से तबाह हो गई. अब किसानों से नुकसान की भरपाई के लिए सरकार से उम्मीद लगा रहे हैं लेकिन कब किसानों को उचित मुआवजा मिलता है यह देखने वाली बात है.