close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: खाद्य आपूर्ति विभाग का नया फरमान, तय समय में लेना होगा उपभोक्ताओं को राशन

स्टॉक बचाने की स्थिति में लैप्स हो जाएगा. उचित मूल्य की दुकानों पर खाद्य सामग्री के स्टॉक को लेकर सचिव सिद्धार्थ महाजन ने आदेश जारी किए हैं.

राजस्थान: खाद्य आपूर्ति विभाग का नया फरमान, तय समय में लेना होगा उपभोक्ताओं को राशन
राशन वितरण में नई व्यवस्था लागू होने के बाद लापरवाह उपभोक्ताओं पर तो लगाम कसी जाएगी.

जयपुर: राजस्थान सरकार का खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग अब लापरवाह उपभोक्ताओं को राहत नहीं देगा. गरीबों के निवाले की कालाबाजारी और लीकेज सिस्टम रोकने के लिए खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग ने नया फरमान निकालकर नकेल कस दी है. अब उपभोक्ताओं को माह का राशन तय समय सीमा में ही लेना होगा. यदि उपभोक्ता चूके तो उन्हें अगले माह राशन नहीं मिलेगा.

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग की ओर से पहले उपभोक्ताओं को उचित मूल्य की दुकानों से एक साथ चार माह का राशन लेने की छूट थी. खाद्य सुरक्षा योजना में सभी योजनाओं का समावेश होने पर गत वर्ष सरकार ने यह छूट घटाकर दो माह कर दी थी. अब राज्य सरकार ने दो माह का राशन एक साथ लेने की व्यवस्था को समाप्त कर दिया है. नई व्यवस्था के तहत उचित मूल्य दुकान संचालकों को भी बढ़ा हुआ स्टॉक नहीं मिलेगा. पहले गेहूं 100 क्विंटल आवंटन की स्थिति में 10 क्विंटल गेहूं बचने पर शेष स्टॉक को अगले माह में समायोजित किया जाता था लेकिन अब शेष स्टॉक अगले माह के कोटे में समायोजित नहीं होगा.

स्टॉक बचाने की स्थिति में लैप्स हो जाएगा. उचित मूल्य की दुकानों पर खाद्य सामग्री के स्टॉक को लेकर सचिव सिद्धार्थ महाजन ने आदेश जारी किए हैं. इस संदर्भ में सितम्बर 2019 से गेहूं का द्वितीय अवधि विस्तार नहीं किया जा रहा है. इसी प्रकार दिसम्बर 2019 से प्रथम अवधि का विस्तार नहीं किया जाएगा. ऐसे में अब दिसम्बर माह से उपभोक्ता को प्रत्येक माह आवंटित रसद सामग्री उसी माह लेनी होगी. 

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री रमेश मीणा ने बताया कि प्रदेश में 2 करोड़ 8 लाख 30 हजार 965 राशनकार्ड धारक हैं. ये राशन कार्ड एपीएल, बीपीएल, स्टेट बीपीएल, अंत्योदय और अन्नपूर्णा योजना के कार्ड में बंटे हुए हैं. चयनित परिवारों को गेहूं आवंटित हो रहा है. मीणा ने बताया कि राज्य में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत राशन देने में हो रहे फर्जीवाड़े को रोकने के लिए विभाग ने नई व्यवस्था लागू की है. 

इसके तहत राशन उपभोक्ताओं को अब दो माह का अनाज एक साथ नहीं मिलेगा. जिससे राशन की चोरी बंद हो सकती है. मीणा ने बताया कि उपभोक्ता से दो बार पीओएस मशीन पर अंगूठा लगवाकर एक माह का राशन देकर पिछले माह के राशन मिलने की जानकारी अपलोड कर दी जाती है. हर पात्र उपभोक्ता को पूरा राशन मिले इसे लेकर दिशा निर्देश जारी किए है कि वह पीओएस मशीन से एक ही माह का राशन वितरित करें जिससे पात्र लोगों को अगले माह दो माह का एक साथ राशन लेने के लिए डीलर के पास जाना पड़े और डीलर की भी मजबूरी होगी कि उनका राशन काटे बिना वे उन्हें पिछला राशन दे.

बहरहाल, राशन वितरण में नई व्यवस्था लागू होने के बाद लापरवाह उपभोक्ताओं पर तो लगाम कसी जाएगी. साथ ही उन उपभोक्ताओं को भी राहत मिलेगी जो समय पर हर महीने राशन लेने तो पहुंचते हैं लेकिन खाद्यान्न का उठाव समय पर नहीं होने के कारण उन्हें निराश होकर लौटना पड़ता है. अब इस नई व्यवस्था से उठाव भी समय पर होगा और वितरण भी समय पर होगा. साथ ही राशन डीलर्स भी पीओएस मशीन पर दो बार उपभोक्ता का अंगूठा लगवाकर एक महीने का राशन का गेंहू नहीं डकार पाएंगे.