close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: गहलोत सरकार 10 लाख किसानों को बांट रही फसली ऋण

सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना का कहना है कि रबी सीजन में एक अक्टूबर से फसली ऋण का वितरण शुरू हो चुका है. सहकारिता विभाग 31 मार्च 2020 तक 6 हजार करोड़ रूपये का फसली ऋण किसानों को मुहैया करवाएगी. 

राजस्थान: गहलोत सरकार 10 लाख किसानों को बांट रही फसली ऋण
फाइल फोटो

जयपुर: गहलोत सरकार रबी के सीजन में लाखों किसानों के लिए बड़ी खुशखबरी लेकर आई है. रबी सीजन में 5 लाख नए किसानों को ब्याजमुक्त ऋण मुहैया करवाया जाएगा. इससे पहले सरकार ने 5 लाख किसानों को खरीफ सीजन का ऋण उपलब्ध करवा चुकी है. यानि राजस्थान के 10 लाख नए किसानों को पहली बार फसली ऋण मिल रहा है. 

डिफॉल्टर्स और अपात्र किसानों के लिए ऋण पर रोक लगाने के बाद गरीब और पात्र किसानों को सहकारी ऋण योजना का लाभ अधिक से अधिक मिल रहा है. प्रदेश में करीब 5 लाख से ज्यादा किसान ऐसे थे जो डिफॉल्टर्स की श्रेणी में शामिल हो गए हैं. इन किसानों ने समय रहते हुए अपना ऋण अपैक्स बैंक को चुकाया ही नहीं. जिसके बाद सरकार ने ये फैसला लिया था कि ज्यादा से ज्यादा नए किसानों को फसली ऋण उपलब्ध हो सके. इसलिए राज्य सरकार ने 10 लाख नए किसानों को ऋण देने का लक्ष्य रखा था. जिसमें से 5 लाख खरीफ सीजन के किसानों को ऋण मिल चुका है जबकि बाकी के 5 लाख रबी सीजन के किसानों को ऋण मिलने के बाद लक्ष्य पूरा हो जाएगा. प्रदेश में इतनी बड़ी संख्या में ऐसा पहला मौका होगा, जब 10 लाख नए किसानों को पहली बार ब्याजमुक्त ऋण मिल रहा हो.

सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना का कहना है कि रबी सीजन में एक अक्टूबर से फसली ऋण का वितरण शुरू हो चुका है. सहकारिता विभाग 31 मार्च 2020 तक 6 हजार करोड़ रूपये का फसली ऋण किसानों को मुहैया करवाएगी. इस संबंध में जिलेवार टारगेट सहकारी बैंकों को दिए गए हैं. यदि किसी किसान ने खरीफ के सीजन के लिए अधिकतम साख सीमा स्वीकृत कराई है, तो उसे अगले साल ऋण प्रदान किया जाएगा.

वहीं जिन किसानों ने अधिकतम साख सीमा रबी सीजन के लिए कराई है उन्हें इसी वर्ष फसली ऋण दिया जा रहा है. फसली ऋण के लिए किसान कभी भी ऑनलाइन पंजीयन करा सकता है. राज्य के वास्तविक किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए खरीफ की तरह रबी के फसली ऋण भी बायोमैट्रिक सिस्टम के आधार पर किसानों को उपलब्ध करवाया जा रहा है.

खरीफ के फसली ऋण को किसान पैक्स या लेम्प्स पर एफआईजी के माध्यम से फसली ऋण की राशि जमा कराने का विकल्प दिया गया है. इसके तहत वह किसी भी रूपे कार्ड से माइक्रो एटीएम कार्ड से राशि जमा करवा सकता है या आधार आधारित भुगतान पद्धति के माध्यम से राशि जमा करा सकता है. इसके अतिरिक्त किसान को संबंधित बैंक शाखा में वाउचर के माध्यम से भी फसली ऋण की राशि नकद जमा कराने का विकल्प भी दिया गया है.