close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: 7 साल पुराने झूठे रेप केस में फंसाने के मामले में तत्कालीन SHO को सजा

तीनों दोस्त तिजारा रोड पर सोनू होटल पर ठहरे थे. इसी दौरान जाकिर नाम का व्यक्ति किराए की गाड़ी लेकर आया, जिसमे उसने मनीषा नाम की लड़की को पहले ही बैठा रखा था.

राजस्थान: 7 साल पुराने झूठे रेप केस में फंसाने के मामले में तत्कालीन SHO को सजा
कोर्ट ने मामले में तत्कालीन एसएचओ समेत चार आरोपियों को पांच-पांच साल की सजा सुनाई है.

जुगल किशोर गांधी, अलवर: जिले में 2012 के एक मामले में एसीबी की अदालत ने फैसला सुनाया है. कोर्ट ने सदर थाने में तैनात तत्कालीन एचएसओ ब्रजेश मीणा समेत चार आरोपियों को सजा सुनाई है. दरअसल, साल 2012 में असम के तीन व्यापारियों को झूठे दुष्कर्म के मामले में फंसा कर 6 लाख 58 हजार वसूले गए थे. कोर्ट ने मामले में तत्कालीन एसएचओ ब्रजेश मीणा समेत चार आरोपियों को पांच-पांच साल की सजा और अस्सी-अस्सी हजार का जुर्माना लगाया है. 

आरोपियों ने एक महिला और तीन लोगों का सहारा लेकर असम से मेहंदीपुर बालाजी आए तीन लोगों को दुष्कर्म के मामले में फ़ंसाने की साजिश रची, और उनसे 6 लाख 58 हजार के साथ तीन खाली चेक पर हस्ताक्षर करा लिए. सहायक अभियोजन एसीबी अशोक भारद्वाज ने बताया अलवर के मीणा पाड़ी रहनेवाले ललित किशोर ने एसीबी चौकी में 2012 में मामला दर्ज कराया था, उसने शिकायत के बताया कि आसाम से उसके तीन दोस्त शिवनारायण पाठक, जगदीश शर्मा और सरजु कुमार, हसनु गुहावटी से मेहंदीपुर बालाजी आए थे. 

तीनों दोस्त तिजारा रोड पर सोनू होटल पर ठहरे थे. इसी दौरान जाकिर नाम का व्यक्ति किराए की गाड़ी लेकर आया, जिसमे उसने मनीषा नाम की लड़की को पहले ही बैठा रखा था. जाकिर उनको अपना घर दिखाने के बहाने अपने साथ ले गया और वापस आकर होटल पर चाय पीने लगा. जिसके बाद सुनियोजित तरीके से तत्कालिन एसएचओ सदर ब्रजेश मीणा वहां पहुंचे और तीनों को लड़की सहित अपने साथ थाने ले आए. 

थाने लाकर एसएचओ ने तीनों को धमकाया, और पैसे नहीं देने पर लड़की से दुष्कर्म का केस बनवाकर अंदर डालने की बात कही. पुलिस के डर से तीनों पैसे देने को तैयार हो गए, जिसके बाद जाकिर ने अपने दोस्त के खाते में 5 लाख 55 हजार रु और एक लाख 3 हजार रु नकद ले लिए. जिसके बाद से कोर्ट में मामला चल रहा था, अदालत ने अवैध वसूली कर लूट प्रकरण में अवैध रूप से 6 लाख 58 हजार और तीन खाली चैक लेने करने का दोषी माना है. जिसके बाद कोर्ट ने तीनों को सजा सुनाई.

-- रमा शंकर, न्यूज डेस्क