close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: दहेज न देने पर ससुराल पक्ष ने महिला को किया बेघर, पंचायत ने हुक्का पानी किया बंद

अक्टूबर माह 2019 में ससुराल पक्ष के लोगों सहित जातीय पंचों ने पीड़ित कंचन के पिता की बिना इजाजत के उसके घर पंचायती की.

राजस्थान: दहेज न देने पर ससुराल पक्ष ने महिला को किया बेघर, पंचायत ने हुक्का पानी किया बंद

पाली: देसूरी उपखंड क्षेत्र के माडपुर गांव की एक मेघवाल समाज की विवाहिता के परिवार को जातीय पंचों द्वारा अवैध रूप से साढ़े तीन लाख रुपये वसूल करने और उसे ससुराल से बेदखल करने का मामला सामने आया है. देश भले ही आजाद हो गया हो लेकिन आज भी समाज मे न्यायप्रणाली के समानान्तर अपनी कोर्ट चला रहे हैं. कथित जातीय पंच तुगलकी फरमान सुनाकर न केवल समाज का शोषण कर रहे हैं बल्कि कई लोही का जीवन ही नारकीय बना दिया है. ये कथित पंच अनपढ़ नहीं बल्कि, पढ़े लिखे होने के साथ सरकारी नौकरी तक में सेवारत हैं. इन जातीय पन्चों के जुल्म से परेशन होकर विवाहिता ने खिंवाड़ा थाने में ससुराल सहित जातीय पंचों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है.

माडपुर गांव निवासी पीड़ित विवाहिता कंचन की शादी वर्ष 2016 में गाथी गांव के सुरेश मेघवाल के साथ हुई थी. कुछ महीने तक सब ठीकठाक चला लेकिन अचानक कुछ महीनों बाद विवाहिता कंचन पर ससुराल वाले सितम ढाने लगे. आए दिन कंचन के साथ मारपीट की जाती थी. साथ ही दहेज की मांग पूरी नहीं करने पर उसे ससुराल से निकाल भी दिया गया. चूंकि ससुराल पक्ष के लोग आर्थिक रूप से सुदृढ़ होने से जातीय पंचों ने भी उन्ही का साथ देकर कंचन पर दबाव बनाना शुरू किया.

अक्टूबर माह 2019 में ससुराल पक्ष के लोगों सहित जातीय पंचों ने पीड़ित कंचन के पिता की बिना इजाजत के उसके घर पंचायती की. यही नहीं तुगलकी फरमान सुनाते हुए पीड़िता के परिवार से साढ़े तीन लाख रुपए का दंड वसूल लिया. पीड़ित विवाहिता और उसके पिता पन्चो के सामने हाथ जोड़कर समाज से बाहर नहीं करने की भीख मांगते रहे लेकिन पंचों ने तुग़लकी फरमान सुनाकर समाज से बाहर कर हुक्का पानी बन्द कर दिया.

पीड़ित कंचन ने उक्त मामले को लेकर खिंवाड़ा थाने में ससुराल पक्ष और जातीय पंचों के विरुद्ध मामला दर्ज कराया है. अब देखना इस बात को है कि क्या कानून कंचन को न्याय दिलाएगा या एक बार फिर कानून धन्ना सेठो के हाथ कठपुतली बनेगा