close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: ऑडिट मामलों के लिए बढ़ाई गई ITR रिटर्न की अंतिम तारिख, पढ़ें खबर

सीबीडीटी ने ट्वीट कर कहा कि देशभर से मिली प्रतिक्रिया पर विचार करने के बाद आईटीआर और टैक्‍स ऑडिट रिपोर्ट जमा करने की अंतिम तारीख को 30 सितंबर से बढ़ाकर 31 अक्टूबर 2019 करने का फैसला लिया है.

राजस्थान: ऑडिट मामलों के लिए बढ़ाई गई ITR रिटर्न की अंतिम तारिख, पढ़ें खबर
प्रतीकात्मक तस्वीर

अंकित तिवारी/ जयपुर: सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेज ने इनकम टैक्स रिटर्न ​दाखिल करने की अंतिम तारीख को एक माह के लिए और बढ़ा दिया है. इसके पहले इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तारीख 30 सितंबर 2019 थी. सीबीडीटी ने इस तारीख को एक माह के लिए बढ़ाकर 31 अक्टूबर 2019 कर दिया है. सीबीडीटी ने इस संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि यह तारीख उन लोगों के लिए होगा जिनके अकाउंट की ऑडिटिंग की जरूरत है. 

टैक्स ऑडिट रिपोर्ट जमा करने की भी अंतिम तारीख को भी 30 सितंबर से एक माह के लिए बढ़ाकर 31 अक्टूबर कर दिया गया है. विभाग को बीते एक महिने में देशभर से सैंकड़ों मांगपत्र मिले, केंद्रीय मंत्रायल से भी विभिन्न संगठनों ने मिलकर ऑडिट रिपोर्ट में इजाफे की मांग उठाई थी.

सीबीडीटी ने ट्वीट कर कहा कि देशभर से मिली प्रतिक्रिया पर विचार करने के बाद आईटीआर और टैक्‍स ऑडिट रिपोर्ट जमा करने की अंतिम तारीख को 30 सितंबर से बढ़ाकर 31 अक्टूबर 2019 करने का फैसला लिया है. यह उन लोगों से संबंधित है, जिनके खाते के लिए ऑडिट की जरूरत होती है. 

सीबीडीटी इस संबंध में नोटिफिकेशन जल्द जारी होगा. इस कैटेगरी के तहत आने वाली ऐसी इकाइयां होती हैं जिनके आयकर रिटर्न का आकलन आयकर कानून की 44एबी धारा के तहत किया जाता है और इनके खातों को रिटर्न दाखिल करने से पहले ऑडिट करने की आवश्यकता होती है. आम करदाताओं के लिए इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने की समयसीमा 30 जुलाई होती है. पार्टनरशिप फर्म, को-ऑपरेटिव सोसायटीज, प्राइवेट लिमिटेड कंपनियां और ऐसे उद्यम जिनका सालाना टर्नओवर 2 करोड़ रुपये से अधिक है, यह समयसीमा उनके लिए बढ़ाई गई है.

सीबीडीटी ने एक महीने की अवधि में इजाफा तो किया है लेकिन आने वाले दिनों में फिर से कारोबारी और कर संगठन विरोध कर सकते हैं, क्योंकि यह पूरा सीजन त्योहारों का है. देश के कई हिस्से अभी भी बाढ़ का सामना कर रहे हैं और जीएसटी रिटर्न भरने की भी अवधि यही है.