close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: रुपेंद्रपाल सिंह की जेल में पिटाई को लेकर विधायक ने CM को लिखा पत्र, की जांच की मांग

सीएम अशोक गहलोत ने भी लगे हाथ विधायक को जवाबी पत्र में मामले की जांच एसीएस गृह को उचित कार्रवाई के निर्देश देने की जानकारी दे दी. 

राजस्थान: रुपेंद्रपाल सिंह की जेल में पिटाई को लेकर विधायक ने CM को लिखा पत्र, की जांच की मांग
फाइल फोटो

विष्णु शर्मा, उदयपुर: कुख्यात डॉन आनंदपाल के भाई रूपेंद्रपाल सिंह की जेल में पिटाई होने की शिकायत की गई है. जोधपुर विधायक मनीषा पंवार ने पिछले दिनों रूपेंद्रपाल की पिटाई के मामले की जांच सीबीआई या निष्पक्ष एजेंसी से कराने को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखा था. मुख्यमंत्री गहलोत ने भी प्रकरण की जांच के लिए अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह को पत्र लिखकर उचित कार्रवाई के निर्देश दिए हैं. वहीं गृह विभाग ने जेल महानिदेश को पत्र लिखकर मामले की उच्च स्तरीय जांच कराने के निर्देश दिए हैं. 

प्रदेश के कुख्यात डॉन आनंदपाल का नाम एक बार फिर सियासी सुर्खियों में है. दरअसल उदयपुर जेल में बंद डॉन आनंदपाल के भाई रुपेंद्रपाल सिंह उर्फ विक्की की पिटाई की शिकायत मुख्यमंत्री अशोक गहलोत तक पहुंची है. जोधपुर की विधायक मनीषा पंवार ने रूपेंद्रपाल सिंह उर्फ विक्की की जेल में पिटाई होने और इस मामले में किसी निष्पक्ष एजेंसी या न्यायिक जांच करवाने की मांग की है. 

सीएम अशोक गहलोत ने भी लगे हाथ विधायक को जवाबी पत्र में मामले की जांच एसीएस गृह को उचित कार्रवाई के निर्देश देने की जानकारी दे दी. मामला गृह विभाग पहुंचा तो डीजी जेल से इस मामले में टिप्पणी मांग ली. दरअसल, मामला रूपेंद्रसिंह की पत्नी सुमन कंवर ने उठाया है. सुमन कंवर ने जोधपुर विधायक मनीषा पंवार से मिलकर ज्ञापन दिया की जेल में तलाशी के बहाने पुलिसकर्मियों ने उसके पति रूपेंद्र की पिटाई की है. उसने एएसपी मेवाड़ा, सीआई विवेक सिंह सहित अन्य पुलिसकर्मियों पर रूपेंद्र की पिटाई के आरोप लगाए हैं. सुमन ने आशंका जताई की पुलिस जेल प्रशासन से मिलीभगत कर जेल से ट्रांसफर के दौरान उसके पति रुपेंद्र का एनकाउंटर कर सकती है. 

इधर विधायक मनीषा पंवार ने आनन फानन में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखकर मामले की जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करवाने की मांग की. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी आवश्यक कार्रवाई लिए मामला एसीएस गृह को भिजवाने की बात कही. इसके बाद गृह विभाग से जेल डीजी को पत्र लिखकर बंदी रूपेंद्रपाल सिंह सांवराद के साथ उदयपुर जेल में किए गए जानलेवा हमले की उच्चस्तरीय जांच करवाकर प्रकरण की एफआईआर दर्ज कर रूपेंद्र की जानमाल की सुरक्षा सुनिश्चित करने के निर्देश दिए.