close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर को सड़क जाम से जल्द मिलेगी राहत, ई-रिक्शा संचालन के लिए आदेश जारी

राजधानी जयपुर(Jaipur) में 8 जोन में ई-रिक्शा(E-Rikshaw) संचालन के आदेश के बाद यातायात जाम से राहत मिलेगी.

जयपुर को सड़क जाम से जल्द मिलेगी राहत, ई-रिक्शा संचालन के लिए आदेश जारी
जयपुर के 8 जोन में ई-रिक्शा संचालन के आदेश दिए गए. (प्रतीकात्मक फोटो साभार: DNA)

दामोदर प्रसाद, जयपुर: राजधानी जयपुर(Jaipur) में 8 जोन में ई-रिक्शा(E-Rikshaw) संचालन के आदेश के बाद यातायात जाम से राहत मिलेगी. जयपुर में ई-रिक्शा की संख्या अधिक होने से आए दिन जाम के हालात (Road Jam) बने रहते है. जिससे चौपहिया वाहनों को आवागमन में काफी समस्याओं का सामना करना पडता है. जाम से वाहन चालकों को राहत देने और सुचारू यातायात चलने के लिए जयपुर के 8 जोन में ई-रिक्शा संचालन के आदेश दिए गए.

राजधानी जयपुर के 8 जोन में ई रिक्शा संचालन के आदेश के बाद 15 हजार ई-रिक्शा चालकों को राहत मिली है. जिसके बाद आरटीओ जयपुर में ई-रिक्शा के लाइसेंस बनाने प्रक्रिया शुरू कर दी गई है. 

8 जोन में विभाजित हुआ रुट
विभाग ने सॉफ्टवेयर में संशोधन का काम भी शुरू कर दिया है. साल 2015 में ई-रिक्शा जयपुर में शुरू तो कर दिए गए, लेकिन इसके संचालन के लिए गाइडलाइन तैयार नहीं की गई थी. ट्रैफिक कंट्रोल बोर्ड ने अब ई-रिक्शा के रुट को शहर के 8 जोन में विभाजित कर संचालित करने का फैसला लिया गया.

जयपुर शहरवासियों को मिलेगा फायदा
माना जा रहा है 3 हजार ई-रिक्शा की शुरूआत होने से रोज करीब 10 लाख लोगों को इसका फायदा मिलेगा. जयपुर में कई कॉलोनियां ऐसी हैं जहां मुख्य सड़क तक आने के लिए साधन नहीं है. लो-फ्लोर बस बंद हो चुकी हैं. ऐसे में लोग या तो पैदल आते हैं, या फिर ऑटो किराए पर लेते हैं. ई-रिक्शा के चलने से लोग मुख्य सड़क पर कम किराए में आसानी से पहुंच सकेंगे. इसके साथ ही मेट्रो स्टेशन तक भी आसानी से पहुंचा जा सकेगा.

मेट्रो में बढ़ेगी आवाजाही
शहर के रेलवे स्टेशन, सिविल लाइंस, परकोटा, सोडाला, न्यू सांगानेर रोड, सिंधी कैंप के आस-पास इलाकों में रहने वाले लोग नजदीकी स्टेशन ई रिक्शा के जरिए पहुंच सकेंगे. जिससे मेट्रो में यात्रियों की आवाजाही बढ़ेगी.

हर जोन के लिए अलग रंग होगा निर्धारित
ई-रिक्शा संचालन के लिए आठ जोन बनाने के बाद आरटीओ में अब रंग को लेकर भी कवायद चल रही है. जिसमें हर जोन का अलग-अलग रंग निर्धारित किया जाएगा. इससे फायदा यह होगा कि एक जोन से दूसरे जोन में ई-रिक्शा संचालित नहीं होंगे. इनकी पहचान हो सकेगी. ऐसा पाए जाने पर यातायात पुलिस चालान करेगी.