close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में फिर बरपा सकती है बारिश कहर, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

राजस्थान के करीब एक दर्जन जिलों में अगले 48 घंटों में बारिश को लेकर यलो अलर्ट जारी किया गया है.

राजस्थान में फिर बरपा सकती है बारिश कहर, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट
2-3 दिनों तक तेज बारिश लोगों को परेशान कर सकती है. (फाइल फोटो)

जयपुर: बिहार, मध्यप्रदेश और यूपी में भारी बारिश से बाढ़ के बाद अब मानसून का रूख एक बार फिर से राजस्थान की ओर होने वाला है. मौसम विभाग की माने तो आने वाले 2-3 दिनों तक अभी भी मानसून की तेज बारिश लोगों को परेशान कर सकती है. आने वाले 2-3 दिनों तक बारां, बूंदी, झालावाड़, कोटा में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है.  

राजस्थान के करीब एक दर्जन जिलों में अगले 48 घंटों में बारिश को लेकर यलो अलर्ट जारी किया गया है. प्रदेश के बांसवाड़ा, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, डूंगरपुर, प्रतापगढ़, राजसमंद, सवाईमाधोपुर, सिरोही, टोंक, उदयपुर में यलो अलर्ट जारी किया गया है.

मानसून ने बरपाया था कहर
राजस्थान में इस साल औसत से ज्यादा बारिश हुई. जिसकी वजह से राजस्थान के करीब आधा दर्जन से ज्यादा जिले बाढ़ की चपेट में आ गए थे. कोटा, बारां, बूंदी, झालावाड़, बांसवाड़ा, चित्तौड़गढ़, टोंक, अजमेर, डूंगरपुर और प्रतापगढ़ में बाढ़ से भारी तबाही देखने को मिली. बाढ़ का सबसे ज्यादा असर कोटा में देखने को मिला था, भारी बारिश की वजह से कोटा का निचला इलाका पूरी तरह से जलमग्न हो गया था. एनडीआरएफ की टीम ने रेस्क्यू कर लोगों को घर से निकाला था.

यह वीडियो भी देखें:

किस संभाग में कितनी बारिश
1 जून से 30 सितम्बर तक मानसून सीजन में प्रदेश में जमकर बादलों की मेहरबानी रही. राजस्थान में इस साल औसत से 46 फीसदी ज्यादा बारिश दर्ज की गई. राजस्थान में बीतों सालों में औसत 530 एमएम बारिश दर्ज की जाती रही है, लेकिन इस साल रिकार्ड 774.38 एमएम बारिश दर्ज की गई. सबसे ज्यादा कोटा संभाग में औसत से 76.9 फीसदी ज्यादा बारिश दर्ज की गई. अजमेर संभाग में औसत से 58.7 फीसदी, जयपुर संभाग में औसत से 16.6 फीसदी ज्यादा, उदयपुर संभाग में औसत से 65.3 फीसदी ज्यादा, जोधपुर संभाग में औसत से 18.8 फीसदी ज्यादा, भरतपुर संभाग में औसत से3.1 फीसदी ज्यादा बारिश दर्ज की गई. बीकानेर संभाग में मानसून की बेरूखी रही. बीकानेर में इस साल औसत से 8.8 फीसदी कम बारिश दर्ज की गई.

3 दिन में मानसून की विदाई
मौसम विभाग के अनुसार गुजरात की ओर से बने कम दबाव के क्षेत्र की वजह से राजस्थान के कई हिस्सों में मौसम बदला है. लेकिन अब इस कम दबाव के क्षेत्र का असर कम होता जा रहा है. ऐसे में अगले 3 दिनों के बाद प्रदेश में मानसून की विदाई तय है. इससे पहले ये तीन दिन राजस्थान के कई जिलों पर भारी रह सकते हैं.

WRITTEN BY- SUJIT KUMAR NIRANJAN