close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा: सर्किट हाऊस के कर्जदारों में लालू, अर्जुन मुंडा और फारुख अब्दुल्ला का नाम शामिल

 प्रदेश के सर्किट हाउस के बकायादारों की लिस्ट पर नजर डाली जाए तो कई चौंकाने वाले नाम सामने आते हैं.

कोटा: सर्किट हाऊस के कर्जदारों में लालू, अर्जुन मुंडा और फारुख अब्दुल्ला का नाम शामिल
आरटीआई कार्यकर्ता तरुण अग्रवाल का आरटीआई के तहत सूचना मिली है. (फाइल फोटो)

मनवीर सिंह, अजमेर: रसूखदार नेता हो या फिर आला अधिकारी, जन प्रतिनिधि हो या फिर ओहदेदार, सबके लिए सरकारी रुतबे का प्रतीक माना जाता है सर्किट हाउस. जहां सरकार की आला दर्जे की मेहमान नवाजी का लुफ्त रियायती दर पर उठाया जा सकता है. लेकिन अगर प्रदेश के सर्किट हाउस के बकायादारों की लिस्ट पर नजर डाली जाए तो कई चौंकाने वाले नाम सामने आते हैं. 

कोटा सर्किट हाउस के बकायादारों की लिस्ट में दौसा के तत्कालीन लोकसभा सदस्य राजेश पायलट (Rajesh Pilot) का नाम दर्ज है. स्वर्गीय राजेश पायलट यानि प्रदेश के वर्तमान उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के पिता हैं. राजेश पायलट ने नवम्बर 1993 में कोटा का दौरा किया था तभी वह कोटा सर्किट हाउस में रुके थे. पायलट पर 2 हज़ार 557 रुपये जैसी मामूली रकम का बकाया चल रहा है. इस लिस्ट में जम्मू कश्मीर के तत्कालीन मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला का नाम भी शुमार है. फारूख अब्दुल्ला फरवरी 1997 में कोटा आये थे, उनपर भी 1957 रुपये का बकाया है.

आरटीआई से मिली 3 गेस्ट हाउस के बकायादारों की लिस्ट
आरटीआई कार्यकर्ता तरुण अग्रवाल ने जब पूरे प्रदेश के सभी सर्किट हाउस से बकायादारों की सूची की सूचना मांगी तो ज्यादातर सर्किट हाउस के अधिकारियों ने रसूखदारों के डर से सूची सूचना के अधिकार के तहत उपलब्ध ही नहीं करवाई. लेकिन अजमेर, कोटा और जयपुर ऐसे जिले रहे जहां के सर्किट हाउस के बकायादारों की सूची आज उनके पास है. 

लिस्ट में शामिल हैं दिग्गज नेता
अजमेर में बकायादारों की सूची सबसे लम्बी है. इस में कई मुख्यमन्त्रियों, केन्द्रीय मंत्री और राजस्थान सरकार के मंत्रियों के नाम हैं. सूची में पूर्व उप राष्ट्रपति और राजस्थान के मुख्यमंत्री रहे भैरो सिंह शेखावत का भी नाम शामिल है. जिनपर 2002 से 2499 रुपये का बकाया चल रहा है. 

लालू का नाम भी लिस्ट में शामिल 
इसके अलावा बिहार के सीएम रहे लालू प्रसाद यादव पर भी 2005 से 705 रूपये का बकाया चल रहा है. इसी तरह राजस्थान विधानसभा के पूर्व उपाध्यक्ष किशन मोटवानी, झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा, पूर्व गृह मंत्री भारत सरकार एसबी चव्हाण, राज्यसभा की पूर्व उपाध्यक्ष नजमा हेपतुल्ला, पूर्व प्रधानमन्त्री वीपी सिंह की पत्नी सीता सिंह, राजस्थान के पूर्व राज्यपाल बलिराम भगत समेत कई प्रदेशों के राज्यपाल के नाम शामिल हैं.

नेताजी के गनमैन और ड्राइवर का नाम भी है दर्ज 
लिस्ट में आईएएस और आईपीएस अधिकारियो के साथ ही नेता जी के ड्राइवर और गनमैन के नाम भी दर्ज है. सर्किट हाउस के फर्राश से लेकर चपरासी तक के नाम इस सूची में इस बात की गवाही दे रहे है कि सरकारी माल को अपना समझ कर हज़म करना किसी एक की फितरत नहीं है, बल्कि हम्माम में सब नंगे हैं.

जाहिर है कि सरकार का पैसा जनता का पैसा होता है, यही वजह है कि आरटीआई कार्यकर्ता इस मामले को उठाने में लगे हुए हैं. उनका कहना है कि अगर बात ऐसे नही बनी तो अदालत का दरवाजा भी खटखटाया जाएगा, बकायादारों की इस लिस्ट को गौर से देखें तो पूरे प्रदेश में यह आंकड़ा करोड़ों रुपये तक पहुंच जाएगा.