close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सुगम होगा ट्रैफिक, जल्द सुधरेगी रात्रि गश्त, गहलोत सरकार ने लिया यह बड़ा फैसला

राजधानी जयपुर(Jaipur) और जोधपुर(Jodhpur) कमिश्नरेट में रात्रि गश्त और यातायात व्यवस्था और मजबूत होगी.

सुगम होगा ट्रैफिक, जल्द सुधरेगी रात्रि गश्त, गहलोत सरकार ने लिया यह बड़ा फैसला
जयपुर-जोधपुर यातायात पुलिस में ट्रैफिक पुलिस के पद रिक्त चल रहे हैं. (फाइल फोटो)

विष्णु शर्मा, जयपुर: राजधानी जयपुर(Jaipur) और जोधपुर(Jodhpur) कमिश्नरेट में रात्रि गश्त और यातायात व्यवस्था और मजबूत होगी. राज्य सरकार(State Government)ने दोनों शहरों में होमगार्ड तैनातगी के लिए आज 15 करोड़ 75 लाख रुपए का अतिरिक्त प्रावधान किया है. होमगार्ड की 6 माह के नियोजन की मंजूरी दी गई है. इसके साथ ही गृह मंत्री की विधानसभा में की गई बजट घोषणा भी पूरी हो गई.
 
गृह विभाग के प्रभारी मंत्री शांति धारीवाल (Shanti dhariwal) ने बजट सत्र के दौरान गृह विभाग की अनुदान मांगों पर बहस के जवाब में जयपुर शहर(Jaipur City)में सुगम यातायात के लिए 500 होमगार्ड और नए विकसित रिहायशी इलाकों में रात्रि गश्त के लिए 500 होमगार्ड के नियोजन की घोषणा की थी. इसके साथ ही जोधपुर कमिश्नरेट में ट्रैफिक व्यवस्था के लिए 75 तथा रात्रि गश्त के लिए 175 होमगार्ड लगाने की घोषणा की थी.

पीएचक्यू के प्रस्ताव को किया मंजूर
इधर मंत्री धारीवाल की घोषणा के बाद पुलिस मुख्यालय से प्रस्ताव गृह विभाग भेजा गया. गृह विभाग से प्रस्ताव पर वित्त विभाग की सहमति ली गई. इसके बाद बुधवार को गृह विभाग ने होमगार्ड के नियोजन के लिए 15 करोड़ 75 लाख रुपए का अतिरिक्त प्रावधान किया. 

6 माह के लिए किया गया नियोजन
वित्त विभाग ने जयपुर-जोधपुर के लिए 1250 होमगार्ड की छह महीने के लिए तैनातगी पर सहमति दी है. वित्त विभाग ने सहमति के साथ ही शर्त लगाई गई है कि होमगार्ड 31 मार्च 2020 तक अथवा प्रशिक्षित कांस्टेबल उपलब्ध होने तक जो भी पहले हो तक तैनात रहेंगे. 

मिलेगी लोगों को राहत
होमगार्ड के नियोजन से लोगों को राहत मिलेगी. जयपुर-जोधपुर यातायात पुलिस में ट्रैफिक पुलिस के पद रिक्त चल रहे हैं. वहीं शहर की सीमा बढ़ गई है, वाहनों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है, जिससे यातायात कंट्रोल करने में परेशानी हो रही है. वहीं दूसरी ओर कांस्टेबल के पद खाली बताए जा रहे हैं जिससे नई बसी कॉलोनियों में रात्रि गश्त नहीं हो पा रही है. ऐसे में पुलिस मुख्यालय के प्रस्ताव को प्रभारी मंत्री शांतिधारीवाल ने विधानसभा में गृह विभाग की अनुदान मांगों के जवाब में पुलिस के साथ होमगार्ड के नियोजन की घोषणा की थी. अब होमगार्ड का नियोजन होने से पुलिस के साथ ही लोगों को भी राहत मिलेगी.